fbpx

जमीन पर सोना आपकी कईं परेशानी ठीक कर सकता है – जानिए कैसे!

बेड पर बिछे हुए मोटे व आरामदायक गद्दे पर सोना किसे अच्छा नहीं लगता है। अधिकांश लोग मोटे गद्दे पर ही सोना पसंद भी करते हैं, वहीं कुछ लोग सोने को लेकर इस दुविधा में रहते हैं कि बेड पर सोना ज्यादा सही रहता है या नीचे जमीन पर।

अगर आप भी इसी तरह की किसी कश्मकश में फंसे हुए हैं तो चलिए हम आपको बता ही देते हैं कि जमीन पर सोना बेड पर सोने से कहीं ज्यादा फायदेमंद है। हम आपको जमीन पर सोने के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आप ना तो बेड पर सोना पसंद करेंगे और ना ही मोटे गद्दे पर।

आइये जानते हैं इन फायदों के बारे में –

बॉडी स्ट्रक्चर के लिए फायदेमंद

बॉडी स्ट्रक्चर या आपके खड़े होने और बैठने की मुद्रा जिसे आम भाषा में पोज़ भी कहा जाता है. आपको जान कर हैरानी होगी कि खराब स्वास्थ्य के ज्यादातर मामले जो आते हैं वो बॉडी स्ट्रक्चर में आई परेशानियों के कारण होते हैं और स्ट्रक्चर में आईं ये परेशानियां खराब स्लीपिंग पोजीशन्स के कारण होती हैं। जमीन पर सोने से पूरी बॉडी एक सीध में होती है और इस तरह आपको इन समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

रक्त का सही संचार

अगर आप तनाव में हैं या कोई परेशानी आपको सता रही है अथवा शरीर में रक्त संचार से संबंधित समस्या महसूस कर रहे हैं तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। आराम से जमीन पर सोएं। इससे रक्त संचार सही से होता है, साथ ही शरीर और दिमाग में सही तालमेल बैठता है और तनाव से राहत मिलती है।

हड्डियों की संरचना में सुधार

बिस्तर कितना भी आरामदायक हो लेकिन यह आपकी हड्डियों को एक सीध में नहीं रख पाता। कई बार ऐसा होता है कि आपको पता भी नहीं चलता लेकिन शरीर के अंदरूनी हिस्सों में छोटी-मोटी चोट हड्डियों को क्षतिग्रस्त करती हैं। जमीन पर सोने से एक सीध में रहने के कारण ये सही प्रकार से जुड़ती हैं और जल्दी रिकवरी करती हैं।

बैचेनी का इलाज

यदि आप बिस्तर में रात भर करवटें बदलते रहते हैं तो आपको बैचेनी की समस्या है। बैचेनी की समस्या होने पर रात करवटें बदलती हुई गुजर जाती है या पूरी रात हल्की-हल्की नींद आती है। इसका एक ही ईलाज है- जमीन पर सोएं।

पीठ दर्द की समस्या से मिलती है राहत

गलत ढंग से सोने या मोटे गद्दे पर सोने की वजह से अधिकांश लोगों को पीठ दर्द की समस्या होने लगती है। क्योंकि नर्म गद्दा आपके शरीर को उसकी प्राकृतिक मुद्रा में रख पाने में असमर्थ होता है. ऐसे में नीचे जमीन पर सोने की आदत से आपको पीठ दर्द से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा। नीचे सोने से रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी रहती है जिससे शरीर में रक्त का संचार सही तरीके से होता रहता है और धीरे-धीरे पीठ दर्द से आराम मिलने लगता है।

कंधे सीधे हो जाएंगे

आज कल कंप्यूटर या मोबाइल पर हर समय काम करने के कारण झुके हुए कंधे दिन प्रति दिन समस्या का कारण बनते जा रहे हैं. कंधों से सभी तरह की समस्या का एक ही समाधान है- जमीन पर सोना। यदि आप झुककर चलते हैं या आपकी गर्दन में दर्द होता है तो जमीन पर सोएं। जमीन पर सोने से आपके कंधे सही संतुलन बनाते हुए सही दिशा में रहते हैं।

रीढ़ की हड्डियों के स्वास्थ्य में फायदेमंद

शरीर के ऊपरी हिस्सों को सही प्रकार से काम करने में रीढ़ की हड्डी की बड़ी भूमिका होती है। इससे मस्तिष्क की नसें भी सीधे तौर से जुड़ी होती हैं, इसलिए रीढ़ की हड्डियों का सीधा होना बेहद आवश्यक है।जमीन पर सोने से आपकी रीढ़ की हड्डी पूरी तरह एकरेखीय स्थिति में होती है। अगर थकान या किसी अन्य कारण से इसमें कोई परेशानी आती है तो रात में सोते हुए यह ठीक हो जाती है। जमीन पर सोना उसे जल्दी रिकवरी में मदद करता है।

लोअर बॉडी पार्ट्स का स्वास्थ्य

जमीन पर सोने से कंधे के साथ शरीर के निचले हिस्सों का संतुलन ठीक रहता है। इससे खून का बहाव सही प्रकार से होता है और दूसरे दिन आप ज्यादा फ्रेश महसूस करते हैं। इसके अलावा इससे आपको कमर दर्द, कंधे में दर्द, नसों में खिंचाव के कारण मांसपेशियों में दर्द जैसी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता।

मानसिक तनाव से मुक्ति

शोध से ये बात सामने आई  है कि जमीन पर सोने से राहत भरी नीद आती है जिससे मानसिक तनाव भी दूर होता है।

अनिद्रा की समस्या होती है दूर

अगर आपको रात में नींद नहीं आती या बहुत ही मुश्किल से झपकी जैसी नींद आती है तो जमीन पर सोए। जमीन पर सोने से अच्छी नींद आती है और आप खुद को तरोताजा महसूस करते हैं।

साफ है कि जमीन पर सोना शारीरिक और मानसिक दोनो स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है इसलिए इन फायदों को पाने के लिए आज ही से जमीन पर सोना शुरू कर दीजिए।

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like ज़रूर करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply