fbpx

वजन घटाना इतना भी मुश्किल नहीं! बस सही तरीका अपनाना ज़रूरी है – जानिए कैसे!

वजन की चिंता से तो आजकल हर कोई परेशान है। कोई वजन घटाने (Weight Loss) को लेकर दुखी है तो कोई बढ़ाने को लेकर।

लेकिन एक ऐसी चीज़ जो इतनी आसानी से मिलती है और वजन बढ़ाने और घटाने दोनों में ही बेहद ज़रूरी है, हम उसी के बारे में बात कर रहे हैं।

जल ही जीवन है ये तो आपने सुना ही होगा. मगर क्या हम उसका सही तरह से इस्तेमाल करते हैं? शायद आपका जवाब भी नहीं ही है. आज कल की भाग दौड़ भरी दुनिया में हमारे पास खुद के लिए समय बचा ही नहीं है. हम हर वक़्त जल्दबाजी में रहते हैं और शायद इसीलिए इतनी बीमारियों से घिरे रहते हैं.

न हम सही तरह से खाते हैं और न ही पीते हैं. ऐसा ही एक उदाहरण है पानी. हमारा शरीर जो कि 70% पानी से ही बना है, उसके लिए पानी ही सबसे ज्यादा ज़रूरी चीज़ हैं. इसलिए जल को ही जीवन कहा गया है. पर इसी पानी को अगर फ्रिज में रख कर ठंडा कर के पी लिया जाये तो ज़हर बन जाता है. और यही पानी अगर मटके कि ठंडक का हो तो अमृत बन जाता है.

लेकिन पानी के सेवन का सही तरीका है उसे गरम करके पीना. इसके अलावा और कोई तरीका नहीं है. गरम पानी शरीर को सीधे लाभ देता है और बहोत सारी समस्याएं ख़तम कर देता है. जिनके बारे में आगे बताया गया है.

दिल्ली में चाँदनी चौक पर रहने वाली एक महिला रीना (आग्रह पर नाम बदल गया है), जो कईं बीमारियों से पीड़ित थी, उसने प्रण लिया के वह अपने स्वास्थ्य में सुधर करेगी और शुरुआत करेगी सिर्फ एक छोटी सी आदत – गर्म पानी पीने की आदत और जान लीजिये उसे क्या क्या फायदे हुए :

मोटापे पर नियंत्रण (Weight Loss) :

मोटापे से परेशान लोगो के लिए गरम पानी में निम्बू का रस मिला कर खाली पेट सुबह पी लेने से बढ़िया कोई औषधि नहीं हो सकती. निम्बू का सिट्रिक एसिड गरम पानी में मिलकर सीधे फैट पर असर करता है और कुछ ही दिनों में वजन घटने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है. वो भी बिलकुल नेचुरल तरीके से.

हाजमा (Digestion) :

हाजमे की समस्या से तो आज कल सभी परेशान हैं. और इसका कारण भी है सीधे सीधे यही है, पानी की कमी. या ठंडा और दूषित पानी, अगर पानी को गरम करके पिया जाये तो वो नुक्सान होने से तो बचाता ही है साथ ही हाजमे में मदद भी करता है. गरम पानी आंत में जा कर हाजमे की गति को बढ़ता है जिससे हाजमा ठीक भी होता है और समस्या भी जड़ से ख़तम होती है.

ये भी पढ़ें :

गैस (Bloating) :

ख़राब हाजमे से गैस की समस्या हो जाना आम बात है. गरम पानी के सेवन से जैसे हाजमा ठीक होता है तो गैस की समस्या भी खुद ब खुद गायब हो जाती है. गरम पानी के साथ तुलसी के कुछ पत्तों का कुछ ही दिन सेवन करें और गैस की समस्या ऐसी हो जाएगी जैसे कभी थी ही नहीं.

खांसी – जुकाम (Cough – Cold) :

सर्दी में खांसी और जुकाम जैसी दिक्कतें आम रहती हैं. ख़ास कर छोटे बच्चे इससे ज्यादा परेशान रहते हैं. उन्हें गरम पानी और अदरक दें और तुरंत इन दोनों समस्याओं से छुटकारा पाएं.

बेहतर रक्त-प्रवाह (Improved Blood Circulation) :

जब आप एक गिलास गर्म पानी पीते हैं, तो शरीर में वसा जमा नर्वस प्रणाली में जमा जमा करने के साथ खत्म हो जाते हैं। यह पूरे शरीर में फैल रहे विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और फिर रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है। सुनिश्चित करें कि मांसपेशियों को आराम दिया जाता है जिससे रक्त परिसंचरण और रक्त के प्रवाह को समाप्त हो जाएगा।

पीरियड्स में आसानी (Better Periods)

कुछ महिलाओं को महीने के उन दिनों में बेहद दर्द का सामना करना पड़ता है। और कुछ को हर महीने अनियमितता की परेशानी रहती है। लेकिन पानी अगर सही तरीके से, सही समय पर और शरीर की ज़रूरत के होसाब से पिया जाए तो इन दिक्कतों में बेहद आराम मिलता है।

ये सब बातें नयी नहीं हैं. बस हम इनका इस्तेमाल करना भूलते जा रहे हैं. आयुर्वेद पर आधारित ये घरेलु नुस्खे बहोत काम के होते हैं. हमें अंग्रेजी दवाओं से ज्यादा इनसे फायदे हैं. आयुर्वेद अपनाएं और स्वस्थ जीवन की तरफ कदम बढाएं.

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like ज़रूर करें!

 

आर्डर करने के लिए लिंक पर जायें – http://whatslink.co/weightloss

Weight Loose Kit – बिना जिम, भागदौड़ और डाइटिंग योग के वजन कैसे घटाया जाए जो वापस न बढे, इसकी जानकारी चाहिए!
घर बैठे कूरियर से भारत में कहीं भी किट पाने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/weightloss

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply