fbpx

कहीं आपके पेट में कीड़े तो नहीं हैं? घर पर ही कीजिये ये काम और पेट के कीड़ों से पाएं आराम!

पेट में कीड़े हो जाना वैसे तो आम बात है, लेकिन इसका तुरंत निदान न किया जाए तो ये गंभीर समस्या बन जाती है। Stomach Worms

पेट के कीड़ों से न केवल आपकी सेहत को नुकसान होता है बल्कि विकास में भी बहुत कमी आती है। हम अक्सर देखते हैं कि जिन बच्चों के पेट में कीड़े होते हैं उनके बढ़ने की दर बहुत कम होती है ऐसे में अक्सर चिकित्सक उन्हें और दवाई देने से पहले पेट के कीड़े खत्म करने को कहता है।

आइए जानते हैं कि पेट में कीड़े क्यों होते हैं और इन से कैसे छुटकारा पाया जाए।

पेट के कीड़े होने के कारण : –

पेट में कीड़े होने का सबसे बड़ा कारण है ख़राब खाना पीना. इसके मुख्य कारण इस प्रकार हैं : –

  • इधर-उधर खुली पड़ी चीजों को खा लेने से
  • मिट्टी द्वारा दूषित पानी पीने से
  • घाव में सड़न होने से
  • मक्खियों या अन्य दूषित वस्तुयों के संपर्क में आने से
  • दूषित वातावरण में रहने या जाने से
  • पेट के कीड़े (दूषित) गलत खान-पान
  • गंदे हाथों से खाना
  • अजीर्ण (भूख का न लगना) में खाना खाने
  • मक्खियों द्वारा दूषित आहार
  • दूध, खट्ठी-मीठी वस्तुएं अधिक खाने
  • मैदा पीसे हुए अन्न, कढ़ी, रायता, गुड़, उड़द, सिरका, कांजी, दही और संयोग विरुद्ध पदार्थों के खाने से
  • परिश्रम न करना और दिन में सोना

 ये भी पढ़े –

 

पेट के कीड़ों से मुक्ति के आसान घरेलु उपाय : –

अगर आप अपने खाने पीने का ध्यान रखें तो पेट के कीड़ों से घर पर ही राहत पा सकते हैं.  ज्यादातर बताये गये घरेलु नुस्खे बिना किसी परेशानी के घर पर ही खाने पीने की चीज़ों से किये जा सकते हैं. इनके बारे में नीचे बताया गया है :

अनार :

अनार के छिलकों को सुखा कर और फिर पीस कर उसका चूरन बना लीजिये. इस चूरन को नियमित दिन में 3 बार लेने से पेट के कीड़े मिट जाते हैं.

नारियल :

नारियल को घिस कर एक चम्मच हर रोज़ सुबह अगर नाश्ते के साथ खाया जाया और उसके 2 घंटे बाद एक गिलास गुनगुने दूध में 2 चम्मच कास्टर आयल मिला कर पिया जाये तो आंत के कीड़ों में आराम मिलता है. ऐसा तब तक करें जब तक इन्फेक्शन ख़त्म न हो जाये.

लहसुन :

हर रोज़ सुबह लहसुन की 2 – 3 कलियाँ खाली पेट खाएं. एक हफ्ते में कीड़ों से तो छुटकारा मिलेगा ही साथ ही वजन कम करने में भी सहायता मिलेगी.

अगर कच्चा लहसुन खाने में मुश्किल लगे तो लहसुन की चटनी बना कर उसमें सेंधा नमक मिला कर भी खा सकते हैं.

पपीता :

पपीते के गुद्दे के 1 बड़े चम्मच को 1 चम्मच शहद और 3 चम्मच गरम पानी के हिसाब से हर रोज़ सुबह खाली पेट लें. फिर नाश्ते के 2 घंटे बाद एक गिलास गुनगुने दूध में 2 चम्मच कास्टर आयल मिला कर पिया जाये तो आंत के कीड़ों में आराम मिलता है.

नीम :

नीम तो हर बीमारी का इलाज है. 1 गिलास गरम पानी के साथ 1 चम्मच नीम की पत्तियों को सुखा कर बनाया चूरन दिन में 2 बार लें. 1 हफ्ते में पेट के कीड़े ख़त्म हो जायेंगे.

ये भी पढ़े –

लौंग :

1 कप गरम पानी में 1 चम्मच लौंग का पाउडर मिला कर २० मिनट के लिए धक् कर रख दें और फिर पी लें.

ऐसा 1 हफ्ते तक हर रोज़ दिन में 3 बार कीजिये. कीड़ों की समस्या से भविष्य के लिए भी छुटकारा मिल जाएगा.

तुलसी :

नीम के जैसे ही तुलसी के भी अनेक फायदे हैं. चाय में तुलसी की पत्तियां डाल कर पी सकते हैं.

इसके अलावा 1 चम्मच तुलसी की पत्तियों का रस रोज़ पीना भी फायदेमंद हैं.

अजवायन :

अजवायन को पीस कर चूरन बना लें. 1 गिलास लस्सी या छाछ में 2 चम्मच मिला कर पीने से पेट के कीड़ों में आराम मिलेगा.

अगर छोटे बच्चे को देना है तो आधा चम्मच अजवायन का चूरन ही इस्तेमाल करें.

जीरा :

गुड और जीरा खाने से पेट की सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं.

सुबह खाली पेट एक गुड का टुकड़ा और थोडा जीरा खाएं. बहोत फायदेमंद रहेगा.

कच्चा केला :

एक हफ्ते तक कच्चे केले सी सब्जी खाएं. पेट के कीड़े नष्ट हो जायेंगे.

 

ध्यान दें कि हर नुस्खा सबके लिए काम नहीं करता. अपनी तासीर के हिसाब से जो ठीक लगे वो अपनाएं. किसी चीज़ से परेशानी हो तो उसे इस्तेमाल न करें.

अगर एक हफ्ते तक पेट के कीड़े न ख़त्म हों तो तुरंत चिकित्सक से मिलें.

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना ना भूले.

http://whatslink.co/BreastPlus

घर बैठे गुप्त डिलीवरी लेने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/BreastPlus

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply