जानिए कैसे खड़े हो कर पानी पीने से हो रहा है आपको बड़ा नुकसान! खतरा है हार्ट अटैक का!

पानी पीना हर इंसान की पहली जरूरत है. बिना पानी के मनुष्य ही नहीं बल्कि, पशु और पक्षी भी जिंदा नहीं रह सकते. अगर भगवान ने खाना पेट की पहली जरूरत बनाया है तो जिंदा रहने के लिए पानी को दूसरी मुख्य और अहम जरूरत बनाया है. पानी पीने के ढेरों फायदे हैं. इससे ना केवल हमारी प्यास बुझती है बल्कि कईं प्रकार की बीमारियाँ भी दूर होती हैं. आयुर्वेद के अनुसार बैठ कर पानी पीने में और खड़े होकर पानी पीने में लाखों अंतर है.

जहाँ एक तरफ बैठ कर पीया गया पानी हमारी अच्छी सेहत को बरकरार रखता है, वहीँ दूसरी और खड़ा होकर पानी पीना हमारी अच्छी खासी सेहत को बिगाड़ देता है. आज के इस आर्टिकल में हम आपको खड़े होकर पानी पीने के कुछ ऐसे नुकसानों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें जानकर आपके पाँव तले से ज़मीन ही खिसक जाएगी.

हेल्‍थ एक्‍सपर्ट द‍िन में पानी पीने के जो नियम बताते हैं, उनमें बैठकर पानी पीना सबसे अहम बताया गया है। पानी बहुत ज्‍यादा ठंडा नहीं पीना चाहिए और एक सांस में भी गटकना नहीं चाहिए। नॉर्मल तापमान पर घूंट-घूंटकर पानी पीना सबसे अच्‍छा माना जाता है। इससे शरीर की रिदम नहीं बिगड़ती और पानी पीने का फायदा शरीर की हर कोशिका तक पहुंचता है।

मशहूर आयुर्वेदिक डॉक्टर गौरव पारीक के अनुसार खड़े होकर पानी पीना हमारी किडनी के लिए हानिकारक सिद्ध होता है. क्योंकि खड़े होकर पानी पीने की स्थिति में पानी बिना छने ही किडनी से बाहर निकलने लगता है जिसके कारण किडनी में कई प्रकार की इंफेक्शन हो जाती है. इससे किडनी के खराब होने का खतरा एवं फेल होने का खतरा दोगुना हो जाता है.

  • खड़े होकर पानी पीने का सबसे बड़ा नुकसान हमारे दिल से जुड़ा हो सकता है. क्योंकि खड़े होकर पिया गया पानी खाने को सही तरह से डाइजेस्ट करने में मदद नहीं कर पाता. ऐसे में खाना ठीक तरह से ना पचने के कारण शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने लगती है. जो कि आगे चलकर हार्ट अटैक का कारण बनती है.
  • आज के लोगों में जॉइंट पेन और गठिया होना आम बीमारी है. खड़े होकर पानी पीने से बॉडी में कई प्रकार के लिक्विड पदार्थों का बैलेंस बिगड़ने लगता है. जिससे शरीर में मौजूद जोड़ों को पर्याप्त पानी की मात्रा नहीं मिल पाती. इस संतुलन के बिगड़ने से गठिया जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं.

  • खड़े होकर पानी पीना किडनी के लिए हानिकारक माना जाता है। दरअसल खड़े होकर पानी पीने से यह बिना छने ही किडनी से बाहर गिरने लगता है। इस तरह शरीर में कई प्रकार की इंफेक्शन होने का खतरा बन जाता है। नतीजतन किडनी संबंधित समस्याएं शरीर में पनपने लगती हैं।
  • खड़े होकर पानी पीना हमारे दिल के लिए भी बहुत खतरनाक होता है। खड़े होकर पानी पीने से यह खाना पचाने में मदद नहीं कर पाता है। इस कारण से शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है जो आगे चलकर हार्ट अटैक का कारण तक बन सकता है।
  • अगर आप खड़े होकर पानी का सेवन करते हैं तो आपको अल्सर की समस्या से जूझना पड़ सकता है। दरअसल, खड़े होकर पानी पीने से आपके शरीर की एसोफेगस नली पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। मामला बिगड़ जाने पर इसके निचले हिस्‍से में अल्सर तक बन जाता है।
  • खड़े होकर पानी पीने से अपच की समस्‍या तक हो सकती है। खड़े होकर पानी पीने से खाना अच्छे से पच नहीं पाता है। जिस कारण आपको अपच की समस्या का सामना करना पड़ जाता है।

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like करना न भूले.

धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना, 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/tSQUZRpC या whats-app 742-885-8589 करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply