fbpx

शरीर की गन्दगी बाहर निकालिए – घर की रसोई में ही करें तैयार!

जिस तरह हर रोज़ नहाना हमारे शरीर के लिए बेहद ज़रूरी है क्योंकि ये गन्दगी और कीटाणुओं को हटा कर हमे स्वस्थ रहने में मदद करता है, उसी प्रकार हमें अंदरूनी तौर पर भी शरीर के हर एक अंग को सफाई की आवशकता होती है।

शरीर के कई अंग विषैले तत्वों को सोख लेते है , जब शरीर के किसी अंग में विषैले तत्वों की संख्या हद से बढ़ जाती है तो शरीर के कई हिस्से अपना काम करना बंद कर देते है। नतीजे में शरीर को कई बीमारियाँ लग जाती है।

एक स्वस्थ्य जिंदगी का सबसे बड़ा राज यह है कि अपने शरीर से विषैले तत्वों को निकाला जाए जिसे हम Detoxification कहते है। इसलिए अब तक आप अपने शरीर के साथ जो बुरा करते आए हैं, उन्हें सुधार लें।

एंटी-ऑक्सीडेंट की आदत डालें। शरीर को डीटाक्सीफाइ करने का यानि कि शरीर में जमा गन्दगी और विषैले पदार्थ बाहर निकलने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप ज्यादा से ज्यादा फल और हरी सब्जियां खाएं। इससे लीवर एंजाइम सक्रिय होंगे और शरीर में मौजूद नुकसानदायक पदार्थो को बाहर निकालने में मदद करेंगे।

इसके लिए आपकी रसोई में ही मौजूद ये चीज़ें ले कर आप बना सकते हैं ऐसा ड्रिंक जो दिनों के नहीं घंटो के हिसाब से असर करता है. आइये इसके बारे में जानते हैं –

सिर्फ 6 घंटो में शरीर का ये डेटॉक्स ड्रिंक कर देगा गंदगी का सफाया :

आवश्यक समग्री :

1/3 कप पानी

1 अदरक

1 खीरा

1 गुथी धनिया

½ नीम्बू

बनाने की विधि और सेवन करने का तरीका :

पहले धनिये को कद्दूकस कर लीजिये तांकि यह एक चमच रह जाए। खीरे को टुकड़ों में काट लीजिये। सारी समग्री को एकसाथ ब्लेंडर में डाल कर मिक्स कर लीजिये। यह एक झागदार मिश्रण में तब्दील हो जाएगा (आप चाहें तो इसमें शहद भी डाल सकते हो स्वाद के लिए)। रोजाना सोने से पहले इस ड्रिंक का सेवन आपको विषैले तत्वों से मुक्त कर देगा। कुछ ही दिनों में आपको फायदा हो जायेगा।

ध्यान रखिये इन बातों का भी –

ऑर्गेनिक प्रोडक्ट का चयन करें कीटनाशक दवाइयों और विषैले तत्वों के खतरे से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि ऑर्गेनिक फूड का सहारा लिया जाए।

हर्बल चाय का सेवन करें पाचन तंत्र की समस्या से निजात पाने के लिए ग्रीन टी या कैमोमाइल टी का सेवन करें। इससे नींद भी अच्छी आएगी। ये चाय शरीर में रक्त संचार को भी बढ़ाता है, जो शरीर से विषैले तत्वों को हटाने में मददगार होते हैं।

खुद का एंटी-ऑक्सीडेंट बनाएं ज्यादा से ज्यादा लहसुन और अंडे खाएं। ये सल्फ्यूरिक तत्वों से भरपूर होते हैं। ये तत्व शरीर में ग्लूथाथीओन नामक एंटी-ऑक्सीडेंट के निर्माण में सहायक होते हैं। ये शरीर में मौजूद रसायन और भारी धातु सहित अन्य विषैले तत्वों को भी बाहर निकाल देते हैं।

लेमन जूस पीएं एक ग्लास लेमन जूस पीने से न सिर्फ शरीर शुद्ध होता है, बल्कि इससे शरीर में क्षार की मात्रा भी बढ़ती है। यह एक सर्वश्रेष्ठ डीटाक्स ड्रिंक है। इसलिए ताजे लेमन जूस पीने पर ज्यादा ध्यान दें।

चीनी को कहें ना अगर आप अपने शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाना चाहते हैं और इसे विषैले तत्वों से दूर रखना चाहते हैं, तो चीनी सेवन की मात्रा घटा दीजिए। हर तरह के मीठे से जहां तक हो सके दूरी बनाइए।

ज्यादा पानी पीएं हर दिन करीब 8-12 ग्लास पानी पीएं। इससे शरीर में मौजूद विषैले तत्व मूत्र और पसीने के रास्ते से बाहर निकल जाएंगे।

हल्का खाना खाएं लगातार हल्का आहार लें और करीब एक महीने तक शराब से दूर रहें। इस विधि से न सिर्फ आपकी ऊर्जा बढ़ेगी, बल्कि इससे आपके वजन के साथ-साथ कोलेस्ट्रोल और ब्लड शुगर का स्तर भी कम होगा।

मसाज करवाएं अपने शरीर का अच्छे से मसाज करवाएं। इससे भी विषैले तत्वों से निजात मिलेगा।

हर दिन 45 मिनट व्यायाम करें अपने दिन की शुरुआत ब्रिस्क वॉकिंग, रनिंग, जॉगिंग या साइकलिंग से करें। इससे शरीर के साथ-साथ दिमाग को भी लाभ पहुंचेगा।

गहरी सांस लें गहरी सांस लें। इससे स्वास्थ्य बेहतर होने के साथ-साथ पूरे शरीर में ऑक्सीजन का भी अच्छे से संचार होगा।

नाक की करें सफाई हम एक ऐसे वातावरण में रहते हैं, जो धूल और प्रदुषण से भरे पड़े हैं। इससे आपको एलर्जी हो सकती है। इससे बचने के लिए अपने नाक को नियमित रूप से धोएं। ऐसा करने पर वायु प्रदुषक से छुटकारा मिलेगा और नींद भी अच्छी आएगी।

योग करें योग न सिर्फ डीटाक्सीफाइ में मददगार होता है, बल्कि इससे दिमाग को भी फायदा पहुंचता है। हर सुबह आप कुछ साधारण योग करके भी अपने शरीर के विषैले तत्वों से छुटकारा पा सकते हैं।
जूस पीएं ताजे फलों और सब्जियों के जूस पीने की मात्रा को बढ़ाएं।

आराम भी करें आलस्य और सुस्ती से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि आप पर्याप्त नींद लें। इस बात को सुनिश्चित करें कि आप हर दिन 8 घंटे की नींद लेते हों।

एक्स्फोलीएट अपने त्वचा से विषैले तत्व निकालने के लिए स्किन एक्स्फोलीएट करें। इससे शरीर का रक्त संचार भी बेहतर होगा।

कुछ आदतों को छोड़ें अगर आप सिगरेट और शराब का अधिक सेवन करते हैं, तो यह आदत छोड़ दें। यहां तक की थोड़ा सिगरेट पीना भी शरीर के लिए नुकसानदायक होता है। इसके अलावा, अगर आप शराब पीते हैं, तो इसे जहां तक हो सके, कम से कम पीएं।

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like ज़रूर करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply