मोटापे से लेकर कैंसर तक दूर करती है सफेद मिर्च, जानिए कैसे करें इसका उपयोग और फायदे

खाने में तीखा और चटक स्वाद लाने के लिए तरह-तरह के मसालों का उपयोग किया जाता है। इन्हीं मसालों में मुख्य भूमिका अदा करती है मिर्च। मिर्च की कई किस्में और प्रकार हैं, जिन्हें उनकी खूबियों, स्वाद और सुगंध के कारण अलग-अलग व्यंजनों में उपयोग किया जाता है। उन्हीं में से एक है सफेद मिर्च। हल्के रंग के सूप और सब्जी की प्राकृतिक रंगत बरकार रखने के लिए इसे काली मिर्च की जगह उपयोग किया जाता है। कम ही लोग ऐसे होंगे, जिन्हें मिर्च के इस प्रकार के बारे में पता हो। यह खाने को स्वादिष्ट तो बनाती ही है, साथ ही अपने औषधीय गुणों के कारण स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है। वहीं, इस लेख में बताई जा रही बीमारियों के लक्षणों से उबरने में मदद कर सकती है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको सफेद मिर्च के फायदे और उपयोग संबंधी कई जरूरी बातें बता रहे हैं।

अधिकांश घरों में खाने के स्वाद में सबसे ज्याद काली मिर्च का प्रयोग किया जाता है। काली मिर्च में ऐसे कई पोषक तत्व मौजूद होते है जो शरीर की कई बीमारियों से लडऩे में सहायक होते है। इसके साथ ही सफेद मिर्च भी काली मिर्च की तरह ही फायदेमंद होती है। सफेद मिर्च में फ्लेवोनोइड, विटामिन और एंटी।ऑक्सीडेंट सफेद के गुणों से भरपूर सफेद या दखनी मिर्च का इस्तेमाल कई हेल्थ प्रॉब्लम को दूर करने के लिए किया जाता है। तो चलिए आज हम आपकों सफेद मिर्च के फायदों के बारे में बताते है। जो सेहत के लिए बहुत लाभदायक है।

सफेद मिर्च के गुण-

सफेद मिर्च या दखनी मिर्च दिखने में ऑफ वाइट कलर की होती है। इसके बीज गोल होते हैं जो बाहर से खुरदुरे होते हैं। ये फ्लेवोनोइड, विटामिन और एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है। इस मिर्च का प्रयोग प्राचीन समय से औषधियों के निर्माण में हो रहा है। लेकिन एक बात का ख्‍याल अवश्‍य रखें दखनी मिर्च की तासीर बहुत गर्म होती है, बच्‍चों या बुजुर्गों को देने से पहले इसकी परख जरूर कर लें।

कैंसर से बचाव-

कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से भला सफेद मिर्च आपको कैसे बचाएगी, या कोई भी घरेलु नुस्‍खा इसमें कैसे काम आता है। आपके मन में ये सवाल जरूर उठता होगा। दरअसल जो भी फल, सब्‍जी या मसाला कैंसर से बचाव में काम आता है उसमें एंटी कैंसरस गुण होते हैं। जिनका सेवन नियमित रूप से करने पर आपकी बॉडी में कैंसर कोशिकाएं उत्‍पन्‍न ही नहीं होने देते। दखनी मिर्च भी कैंसर से आपका बचाव करती है।

मोटापा कम करने के लिए-

सफेद मिर्च को मोटापा कम करने के लिए विकल्प के तौर पर चुना जा सकता है। कैप्सैसिन की उपस्थिति के कारण सफेद मिर्च शरीर के अंदर वसा को बर्न करने में मदद करता है और इस तरह हमें वजन कम करने में मदद मिलती है।

ये भी पढ़े-

हड्डियों को मजबूती दे-

सफेद मिर्च में मैंगनीज, तांबा और मैग्नीशियम जैसे खनिज से भरपूर होता है, जो स्वस्थ हड्डियों के विकास और ताकत के लिए जरूरी होता हैं, खासकर तब जब बढ़ते उम्र के साथ लोगों की हड्डियां धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है।

सर्दी-खांसी-

सफेद मिर्च का रोजाना सेवन आपको मौसमी बीमारियों से बचाता है। खासकर सर्दियों और बरसात के मोसम में ये आपको वायरस के अटैक से सुरक्षित रखता है। सफेद मिर्च में मौजूद एंटी बायटिक गुण शरीर को गर्म रखते हैं और सर्दी लगने से बचाते हैं। इसका सेवन करना बेहद आसान है। कच्चे शहद के साथ सफेद मिर्च को मिलाएं और हल्‍का गुनगुना कर इसका सेवन करें। ये आपको सर्दी, खांसी, कफ, जुकाम और बुखार से आपको बचाएगी

गठिया को कहें अलविदा-

उम्र ढलने के साथ हड्डियों की परेशानी होना आम बात है। लेकिन आजकल बच्‍चों, युवाओं, अधेड़ उम्र के लोगों में भी गठिया, बाय की समस्‍या होने लगी है। जोड़ों में दर्द तो जैसे आम समस्‍या हो गई है। आपकी इस समस्‍या का समाधान है सफेद मिर्च। सफेद मिर्च में मौजूद फ्लेवोनोइड और कैप्सैसिइन मांसपेशियों में सूजन के साथ गठिया ओर जोड़ों में दर्द को भी दूर कर देते हैं। इसका सेवन करना लाभदायक है।

रक्तचाप में गुणकारी है-

रक्तचाप का बढ़ना सेहत के लिए घातक हो सकता है। सफेद मिर्च फ्लेवोनॉयड, विटामिन सी और विटामिन ए में समृद्ध है। यह रक्तचाप को नियंत्रण में रखने में यह बहुत सहायक है। उच्च रक्तचाप और अन्य संबंधित मुद्दों वाले व्यक्तियों को अपने दैनिक आहार में सफेद मिर्च के सेवन पर विचार करना चाहिए।

पाचन तंत्र-

सफेद मिर्च आपके डायजेस्टिव सिस्‍टम को दुरुस्‍त रखती है, इसका इस्‍तेमाल करने से पाचन संबंधी कई परेशानियां दूर हो जाती हैं। सफेद मिर्च में मौजूद हाइड्रोक्‍लोरिक एसिड आपके पाचन तंत्र में जाकर उसे फिट रखता है और आपको एसिडिटी,अपच, गैस, अल्सर और पेट में इंफेक्शन जैसी समस्‍याएं नहीं होती हैं। सफेद मिर्च का प्रयोग रोजाना करने से आपको उसके लाभ मिलते हैं।

हार्ट प्रॉब्‍लम्‍स-

दिल के लिए सफेद मिर्च बहुत सेहतमंद मानी जाती है। सफेद मिर्च को खाने से बॉडी के टॉथ्‍क्‍सक एलीमेंट्स पेशाब द्वारा शरीर से बाहर चले जाते हैं। शरीर एकदम साफ रहता है। जिसका फायदा हमारे दिल को मिलता है। दिल स्‍वस्‍थ रहता है और दिल के रोग होने के चांसेज काफी हद तक कम हो जाते हैं। सफेद मिर्च शरीर के अंदरूनी अंगों को बहुत फायदा पहुंचाती है। ये किडनी के लिए भी फायदेमंद है।

डायबिटीज-

सफेद मिर्च का सबसे बेहतरीन फायदा है डायबिटीज को कंट्रोल करना। इसके रोजाना सेवन से आपका मधुमेह नियंत्रण में रहता है। मेथी के बीज, हल्दी और सफेद मिर्च पाउडर को एक साथ मिलाकर दूध के साथ रोजाना पीने से डायबिटीज कंट्रोल में रहती है। ये तो आप अच्‍छे से जानते हैं कि डायबिटीज एक बार हो जाए तो उसका जाना बहुत ही मुश्किल है। ऐसे में सफेद मिर्च उसे हमेशा कंट्रोल में रख सकती है।

डैंड्रफ को दूर कर सकती है-

सर्दियों में रूसी की समस्‍या से सभी परेशान रहते हैं। खासतौर से महिलाएं। सफेद मिर्च आपकी इस प्रॉब्‍लम को जड़ से मिटा सकती है। सफेद मिर्च और दही को मिक्‍स करें अब इस मिश्रण से बालों की जड़ों को अच्‍छे से मसाज करें। खेपड़ी पर इस पेस्‍ट को लगे रहने दें। करीब आधे घंटे बाद इस पेस्‍ट को गुनगुने पानी से धो दें। हफ्ते में दो बार प्रयोग से ही आपको इसके नतीजे मिलने शुरू हो जाएंगे।

दिल का रखे ख्याल-

दिल से संबंधित समस्याओं से बचे रहने के लिए भी सफेद मिर्च का इस्तेमाल किया जा सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक सफेद मिर्च में पिपेरिन नाम का एक खास तत्व पाया जाता है। वहीं, पिपेरिन में कार्डियोडिप्रेसेंट (ब्लड प्रेशर को कम करने वाला) और वैसोडिलेटर (हृदय की धमनियों में रूकावट को दूर करने वाला) प्रभाव मौजूद होता है (5)। इस कारण यह कहा जा सकता है कि सफेद मिर्च का उपयोग हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में लाभकारी परिणाम दे सकता है।

नोट :- गर्भवस्था और स्तनपान के समय महिलाओं को सफेद मिर्च खाने से बचना चाहिए।

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like ज़रूर करें!

 

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply