हजारों रूपये की दवाई खाने से बढ़िया है कच्चा केला खाना – ज़रूर जानिए

आमतौर पर लोग पके हुए केले को ही सेहतमंद मानते हैं और सेहत बनाने के लिए इसका भरपूर सेवन भी करते हैं पर वहीं दूसरी तरफ कच्चे केले (Raw Banana) का सिर्फ कभी-कभार सब्जी के रूप में इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आपको बता दें कि जिस कच्चे केले (Raw banana) को आप बेकार समझते हैं वो वास्तव में सेहत के लिए रामबाण है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक हजारों रूपए की दवाई खाने से बेहतर है रोजाना एक कच्चा केला (Raw banana) खाना । आज हम आपको कच्चे केले के ऐसे ही लाभकारी गुणों और इसके सेवन से होने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

आइये जानते कच्चा केला खाने के फायदे (Raw banana) :-

कच्चे केले में सेहतमंद स्टार्च और एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी प्रचूर मात्रा में पाए जाते हैं । ऐसे में रोजाना एक कच्चा केला खाना सेहत के लिए बेहद फायदेमंद साबित होता है. इससे बहुत सी शारीरिक समस्याएं दूर हो जाती हैं। दरअसल इसमें प्रचूर मात्रा में फाइबर्स पाए जाते हैं जो कि अनावश्यक फैट सेल्स और अशुद्धियों को साफ करने में सहायक होते हैं। साथ ही ये अनावश्यक भूख को नियंत्रित करता है जिससे आप फास्ट फूड और दूसरी अनहेल्दी चीजें खाने से बच जाते हैं। ऐसे में आप मोटापे का शिकार बनने से भी बच जाते हैं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की माने तो एक कच्चा केला (Raw banana) आपका खराब मूड ठीक कर सकता है । दरअसल इसमें एमीनो एसिड पाया जाता है जो कि दिमाग में होने वाले रासायनिक परिवर्तन को संतुलित करता है। ऐसे में इससे बार-बार मूड में होने वाले बदलाव को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

पके हुए केले के ढ़ेरो फायदों के बारे में आपको पता होगा और हो सकता है कि आप नियम से एक केला खाते भी हो. या फिर बनाना शेक पीते हों या स्मूदी. पका हुआ केला जहां चाव से खाया जाता है वहीं कच्चे केले का इस्तेमाल सिर्फ सब्जी और कोफ्ता बनाने में ही किया जाता है. इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि आमतौर पर लोगों को इसके फायदों के बारे में पता ही नहीं होता.

कच्चा केला पोटैशियम का खजाना होता है जो इम्यून सिस्टम को तो मजबूत बनाता है ही साथ ही ये शरीर को दिनभर एक्टि‍व भी बनाए रखता है. इसमें मौजूद विटामिन बी6, विटामिन सी कोशिकाओं को पोषण देने का काम करता है. कच्चे केले में सेहतमंद स्टार्च होता है और साथ ही एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी. ऐसे में नियमित रूप से एक कच्चा केला खाना बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है.

कच्चा केला खाने के फायदे:

वजन घटाने में मददगार

वजन घटाने की कोशि‍श करने वालों को हर रोज एक केला खाने की सलाह दी जाती है. इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर्स पाए जाते हैं जो अनावश्यक फैट सेल्स और अशुद्धियों को साफ करने में मददगार होते हैं। अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो तरह तरह के उपाय छोड़िए बल्कि इन सबकी जगह आप रोजाना एक केले का सेवन करना शुरू कर दीजिए. आप पाएंगे कि तेजी से बढ़ रहा आपका वजन नियंत्रण में आ जाएगा।

ये भी पढ़े-

कब्ज की समस्या में राहत

कच्चे केले में फाइबर और हेल्दी स्टार्च होते हैं. जोकि आंतों में किसी भी तरह की अशुद्ध‍ि को जमने नहीं देते. ऐसे में अगर आपको अक्सर कब्ज की समस्या रहती है तो कच्चा केला खाना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. कच्चे केले में भरपूर मात्रा में फाइबर्स पाए जाते हैं, ऐसे में इसका नियमित रूप से सेवन किया जाए तो ये आंतों में किसी भी तरह की अशुद्ध‍ि को जमने नहीं देते। जिससे कब्ज जैसी समस्या से काफी हद तक राहत मिलती है।

भूख को शांत करने में

कच्चे केले में मौजूद फाइबर्स और दूसरे कई पोषक तत्व भूख को नियंत्रित करने का काम करते हैं. कच्चा केला खाने से समय-समय पर भूख नहीं लगती है और हम जंक फूड और दूसरी अनहेल्दी चीजें खाने से बच जाते हैं.

मधुमेह को कंट्रोल करने में मददगार

अगर आपको मधुमेह की शिकायत है और ये अपने शुरुआती रूप में है तो अभी से कच्चा केला खाना शुरू कर दें. ये डायबिटीज कंट्रोल करने की अचूक औषधि है.

पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मददगार

कच्चे केले के नियमित सेवन से पाचन क्रिया बेहतर होती है. कच्चा केला खाने से पाचक रसों का स्त्रावण बेहतर तरीके से होता है. कच्चा केला (Raw banana) पेट के लिए भी बेहद लाभकारी होता है, इसके सेवन से पाचक एंजाइम्स बेहतर ढंग से काम करने लगते है जिससे पाचन पहले से दुरूस्त हो जाता है।

इम्यून सिस्टम

दरअसल कच्चा केला पोटैशियम का खजाना होता है.. ऐसे में इसके सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और इससे शरीर को प्रर्याप्त एनर्जी मिलती है। वहीं इसमें मौजूद विटामिन बी6, विटामिन सी शरीर की कोशिकाओं को पोषण देने का काम करते हैं।

डायबिटीज

कच्चा केला डायबिटीज नियंत्रित करने की अचूक औषधि है. ऐसे में अगर मधुमेह की शिकायत होने पर अगर शुरुआती दौर में ही केले का सेवन करना शुर कर दिया जाए तो इस पर काफी हद तक नियंत्रण पाया जा सकता है।

जोड़ों के दर्द

जैसा कि आपको पहले ही बताया गया कि कच्चे केले में विटामिन, पौटैशियम और कैल्शियम प्रचूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए ये हड्डियों को मजबूत बनाने और जोड़ों के दर्द से निजात दिलाने में बेहद मददगार साबित होता है।

आईये आज जानते है कच्चे केले खाने के बड़े फायदें है।

फाइबर से भरपूर – पाचन क्रिया सुचारु रूप से चले, इसके लिए भोजन का फाइबर युक्त होना जरुरी होता है। अगर रोज़ाना शरीर को 14% फाइबर मिले तो पेट सम्बन्धी बीमारियाँ दूर हो सकती है। केले में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो पाचन क्रिया को दुरुस्त बनाये रखता है ।

ये भी पढ़े-

स्टार्च का स्रोत – शरीर की आंतरिक क्रियाओं को सुचारु रूप से चलाने के लिए रेज़िस्टेंट स्टार्च की आवश्यकता होती है। कच्चा केला स्टार्च का बेहतरीन स्रोत होता है। ये रेज़िस्टेंट स्टार्च कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल रखता है, दिल की बीमारियों और डायबिटीज के अलावा गैस और अपच जैसी समस्याओं को दूर करता है

पोटैशियम का अच्छा सोर्स – सभी हरी सब्ज़ियों में पोटैशियम की अच्छी मात्रा पायी जाती है और कच्चे केले में भी पर्याप्त पोटैशियम मिलता है। शरीर में होने वाली पोटैशियम की कमी को बड़ी आसानी से कच्चा केला खा कर दूर किया जा सकता है।

विटामिन सी की मौजूदगी – विटामिन सी शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों में से एक है जिसकी कमी से मसूड़ों से सम्बंधित रोग स्कर्वी हो सकता है और त्वचा में संक्रमण की शिकायत भी हो सकती है।

विटामिन बी 6 का बेहतरीन सोर्स – विटामिन बी 6 एक ऐसा विटामिन है जो तंत्रिका तंत्र, पाचन तंत्र, प्रतिरोधक तंत्र और दिमाग के विकास और सही तरीके से काम करने के लिए जरुरी होता है। कच्चे केले में ये विटामिन काफी मात्रा में पाया जाता है जो हीमोग्लोबिन बनाने में भी सक्षम होता है।

इसके अलावा कच्चा केला कई तरह के कैंसर से बचाव में भी सहायक है. कच्चे केले में मौजूद कैल्शियम हड्ड‍ियों को मजबूत बनाने में सहायक है और साथ ही ये मूड स्व‍िंग की समस्या में भी फायदेमंद है.

केला एक ऐसा फल है जिसके अनेकों फायदें है और ये उन चुनिन्दा फलों में से है जो कच्छा और पक्का दोनों तरीकों से खाया जाता है। पका हुआ केला फाइबर से भरपूर होता है और एक अच्छी डाइट का जरिया भी है केला। कच्चे केले को हम आमतौर पर चिप्स, नमकीन या फिर सब्जी के तौर पर खाते है। लेकिन इस तरीकों में हम अच्छे केले की आधी से ज्यादा पोषकता को खत्म कर देते है।

 

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना न भूले.

बिना कोई दुष्प्रभाव के साथ सुरक्षित आयुर्वेदिक धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/LYyy6LN3 Whats_app 7455-896433 करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply