fbpx

खसखस (Poppy Seeds) या पोस्तदाना है कमाल की औषधि – जानिए इसके स्वास्थ्यवर्धक फायदे!

खसखस या पोस्तदाना जिसे अंग्रेजी में Poppy Seeds भी कहा जाता है, न केवल स्वाद बल्कि सेहत के लिए भी कमाल की चीज़ है. आज मैं आपको इसी के बारे में बताने जा रही हूँ.

खसखस सूक्ष्म आकार का बीज होता है। इसे लोग पॉपी सीड (Poppy Seed) के नाम से भी जानते हैं। खसखस प्यास को बुझाता है और ज्वर, सूजन और पेट की जलन से राहत दिलाता है और यह एक दर्द-निवारक भी है। लंबे समय से ही प्राचीन सभ्यता मे इसका उपयोग औषधीय लाभों के लिए किया जाता रहा है| पौष्टक और स्वाद से भरपूर खसखस का इस्तेमाल सब्जी की ग्रेवी बनाने और सर्दी के दिनों में स्वादिष्ट हलवा बनाने के लिए किया जाता है। यह स्वाद और सेहत से भरपूर है, इसलिए स्वास्थ्य समस्याओं का उपचार करने के लिए भी इसे दवा के रूप में प्रयोग करते हैं।

आज के समय हर रोज नई-नई बीमारियां सुनने को मिल रही है। गलत खान-पान के कारण हर दूसरा इंसान किसी न किसी बीमारी से ग्रसित है। आज के समय में हैल्दी रहने के लिए स्वस्थ आहार और कुछ घरेलू उपाय बहुत जरूरी है। क्यों न डाइट में कोई ऐसी चीज ली जाएं जिसे खाने के बाद कई बीमारियों से बचा जा सकें। अगर आप दूध के साथ खसखस लेते हैं तो आप कई बीमारियों से बच सकते हैं। खसखस में ओमेगा-3 और ओमेगा-6, फैटी एसिड, प्रोटीन, फाइबर, थायमिन, कैल्शियम और मैंगनीज आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को हैल्दी रखने में मदद करते हैं.

कैसे करें इस्तेमाल?

खसखस के दानो का आधा चम्मच 1 गिलास दूध में अच्छे उबाल कर रात को सोने से पहले पीना चाहिए. वैसे तो इसे दिन में किसी भी समय इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन इसके इस्तेमाल का सबसे बढ़िया समय रात को सोने से पहले ही है. बस एक बात का ध्यान रखना है कि खसखस के दाने पके हुए होने चाहिए.

ऐसा मैं इसलिए कह रही हूँ क्योंकि कच्चे खसखस के दानों में नशीला पदार्ध होता है जिससे दवाएं बनाई जाती है जैसे मोर्फीन. यह दवा वैसे तो कमाल की दर्दनिवारक है लेकिन बिना doctor की सलाह और सहमति के इसका सेवन लत लगा सकता है. इसलिए आपको ध्यान रखना है कि खसखस के कच्चे नहीं बल्कि पके हुए दानों का इस्तेमाल करना है क्योंकि उनमें कोई नशा नहीं होता.

आइये जानें खसखस के फायदे (Poppy Seeds Benefits) –

  • ठंडक – गर्मियों में शरीर को ठंडक देने के लिए खसखस के बीज बढ़िया ऑप्शन है। यह शरीर के टेम्प्रेचर को कम करते हैं और शरीर को गर्मी से बचाते हैं।
  • वजन घटाने के लिए खसखस के बीज बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो वेट कम करने में मदद करता है। इसके लिए रोजाना कुछ दाने खाएं।
  • दर्द निवारक – खसखस (Poppy Seeds) में पाया जाने वाला ओपियम एल्कलॉइड्स शरीर के सभी तरह के दर्द दूर करने में मदद करता है। खास करके इसे खाने से मसल्स पेन दूर होती है। खसखस में मौजूद ओपियम एल्कलॉइड्स नामक रसायन होता है, जो दर्द-निवारक के रूप में बहुत कारगर होता है। खसखस को दांत में दर्द, मांसपेशियों और नसों के दर्द को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। खसखस एक लोकप्रिय दर्द-निवारक भी है।
  • सांस की दिक्कत ठीक करता है – खसखस के बीज में शांतिदायक गुण होने के कारण यह सांस की बीमारियों के इलाज में बहुत कारगर होता है। यह खांसी को कम करने में मदद करता है और अस्थमा जैसी समस्याओं के खिलाफ लंबे समय तक राहत प्रदान करता है। इसे लंबे समय तक लेने से सांस संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। इसके अलावा यह सर्दी-जुकाम को कम कर ने में भी मदद करता है।
  • नींद बढ़िया आती है – रात को सोने से पहले खसखस (Poppy Seeds) को गर्म दूध में मिला कर पीने से अनिंद्रा की समस्या से राहत मिलती है और खूब नींद आती है। खसखस नींद से जुड़ी दिक्कतों में मदद करता है क्योंकि इसके सेवन से आपके अंदर सोने के लिए मजबूत इच्छा पैदा होती हैं। अगर आप भी अनिद्रा की समस्या से परेशान हैं, तो सोने से पहले खसखस के पेस्ट को गर्म दूध के साथ सेवन करना समस्या में बहुत प्रभावी साबित हो सकता है।
  • कब्ज – खसखस फाइबर को बहुत अच्छा स्रोत हैं। इसमें इसके वजन से लगभग 20-30 प्रतिशत आहार फाइबर शामिल होता हैं। फाइबर स्वस्थ मल त्याग में और कब्ज की दिक्कत दूर करने में बहुत लाभकारी होती है। लगभग 200 ग्राम खसखस आपके दैनिक फाइबर की जरूरत को पूरा कर सकता हैं.
  • ब्लड प्रेशर के मरीज के लिए खसखस का सेवन काफी फायदेमंद है। इसमें मौजूद पोटैशियम बीपी को कंट्रोल करने में मदद करता है।
  • तनाव से मुक्ति – खसखस (Poppy Seeds) के सेवन से तनाव में राहत मिलती है और मन की शान्ति मिलती है जिससे डिप्रेशन भी ठीक होता है।
  • खून बढ़ता है – इसे दूध के साथ लेने से शरीर में खून की कमी दूर होती है और एनीमिया से बचा जा सकता है।
  • खसखस मे मौजूद एल्कलॉइड शरीर में मौजूद एक्सट्रा कैल्शियम को सोख कर किडनी में स्टोन बनने को रोकता है।
  • त्वचा की देखभाल – आयुर्वेद में तो हमेशा से ही खसखस (Poppy Seeds) को त्वचा के लिए अच्छा माना जाता है। यह एक मॉइस्चराइजर की तरह काम करता है और त्वचा की जलन और खुजली को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद लिनोलिक नामक एसिड एक्जिमा के उपचार में भी मददगार होता है।

ये विडियो भी देखिये –

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like ज़रूर करें!

आर्डर करने के लिए लिंक पर जायें – http://whatslink.co/weightloss

Weight Loose Kit – बिना जिम, भागदौड़ और डाइटिंग योग के वजन कैसे घटाया जाए जो वापस न बढे, इसकी जानकारी चाहिए!
घर बैठे कूरियर से भारत में कहीं भी किट पाने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/weightloss

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply