किसी भी स्टेज के कैंसर में है मददगार पपीते की चाय – 2 कप रोज़!

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको जो जानकरी आपको देना चाहते है वो कैंसर के इलाज में मददगार सबसे सरल उपाय है

उस से पहले मैं आपसे निवेदन करती हू कि आप हमारे फेसबुक पेज को फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar  like करे ताकि ऐसी ही बहुत सी जानकारी के updates आप तक  आते रहे

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो देश में लगातार फैलती जा रही है। कुछ अमीर लोग इसका अमेरिका में इलाज करा लेते हैं और जो गरीब है वो इलाज के आभाव में मर जाते हैं लेकिन ऐसा अब नहीं होगा।

अभी तक हम लोगों ने सिर्फ पपीते के पत्तों को बहुत ही सीमित तरीके से उपयोग किया होगा, बहरहाल प्लेटलेट्स के कम हो जाने पर या त्वचा सम्बन्धी या कोई और छोटा मोटा प्रयोग।

मगर आज जो हम आपको बताने जा रहें हैं, ये वाकई आपको चौंका देगा, आप सिर्फ 5 हफ्तों में कैंसर जैसी भयंकर रोग को जड़ से ख़त्म कर सकते हैं।

कई प्रकार के वैज्ञानिक शोधो से पता लगा है कि पपीता के सभी भागो जैसे फल, तना, बीज, पत्तिया, जड़ सभी के अन्दर कैंसर की कोशिका को नष्ट करने और उसके वृद्धि को रोकने की क्षमता पाई जाती है। विशेषकर पपीता की पत्तियों के अन्दर कैंसर की कोशिका को नष्ट करने और उसकी वृद्धि को रोकने का गुण अत्याधिक पाया जाता है।

University of florida ( 2010) और International doctors and researchers from US and japan में हुए शोधो से पता चला है की पपीता के पत्तो में कैंसर कोशिका को नष्ट करने की क्षमता पाई जाती है। Nam Dang MD, Phd जो कि एक शोधकर्ता है, के अनुसार पपीता की पत्तियां डायरेक्ट कैंसर को खत्म कर सकती है, उनके अनुसार पपीता कि पत्तिया लगभग 10 प्रकार के कैंसर को खत्म कर सकती है जिनमे मुख्य है।

  • Breast Cancer
  • Lung Cancer
  • Liver Cancer
  • Pancreatic Cancer
  • Cervix Cancer

इसमें जितनी ज्यादा मात्रा पपीता के पत्तियों की बढाई गयी है, उतना ही अच्छा परिणाम मिला है, अगर पपीता की पत्तिया कैंसर को खत्म नहीं कर सकती है लकिन कैंसर की प्रोग्रेस को जरुर रोक देती है।

तो आइये जाने पपीता की पत्तिया कैंसर को कैसे खत्म करती है??

ये भी पढ़े-

 

पपीता कैंसर रोधी अणु Th1 cytokines की उत्पादन को बढाता है जो की इम्यून system को शक्ति प्रदान करता है जिससे कैंसर कोशिका को खत्म किया जाता है। पपीता की पत्तियों में Papain नमक एक प्रोटीन को तोड़ने ( proteolytic) वाला एंजाइम पाया जाता है जो कैंसर कोशिका पर मोजूद प्रोटीन के आवरण को तोड़ देता है जिससे कैंसर कोशिका शरीर में बचा रहना मुश्किल हो जाता है। Papain blood में जाकर macrophages को उतेजित करता है जो immune system को उतेजित करके कैंसर कोशिका को नष्ट करना शुरू करती है। chemotherapy/ radiotherapy और पपीता की पत्तियों के द्वारा ट्रीटमेंट में ये फर्क है कि chemotherapy में immune system को दबाया जाता है जबकि पपीता immune system को उतेजित करता है, chemotherapy और radiotherapy में नार्मल कोशिका भी प्रभावित होती है पपीता सोर्फ़ कैंसर कोशिका को नष्ट करता है।

सबसे बड़ी बात के कैंसर के इलाज में पपीता का कोई side effect भी नहीं है.

कैंसर में पपीते के सेवन की विधि

कैंसर में सबसे बढ़िया है पपीते की चाय। दिन में 3 से 4 बार पपीते की चाय बनायें, ये आपके लिए बहुत फायदेमंद होने वाली है। अब आइये जाने लेते हैं पपीते की चाय बनाने की विधि।

ये भी पढ़े –

पपीते की चाय बनाने की अलग अलग विधियाँ हैं। 5 से 7 पपीता के पत्तो को पहले धूप में अच्छी तरह सुख ले फिर उसको छोटे छोटे टुकड़ों में तोड़ लो आप 500 ml पानी में कुछ पपीता के सूखे हुए पत्ते डाल कर अच्छी तरह उबाल लें। इतना उबाले के ये आधा रह जाए। इसको आप 125 ml करके दिन में दो बार पिए। और अगर ज्यादा बनाया है तो इसको आप दिन में 3 से 4 बार पियें। बाकी बचे हुए लिक्विड को फ्रीज में स्टोर का दे जरुरत पड़ने पर इस्तेमाल कर ले। और ध्यान रहे के इसको दोबारा गर्म मत करें।

पपीते के 7 ताज़े पत्ते लें इनको अच्छे से हाथ से मसल लें। अभी इसको 1 Liter पानी में डालकर उबालें, जब यह 250 ml। रह जाए तो इसको छान कर 125 ml। करके दो बार में अर्थात सुबह और शाम को पी लें। यही प्रयोग आप दिन में 3 से 4 बार भी कर सकते हैं।
पपीते के पत्तों का जितना अधिक प्रयोग आप करेंगे उतना ही जल्दी आपको असर मिलेगा। और ये चाय पीने के आधे से एक घंटे तक आपको कुछ भी खाना पीना नहीं है।

कब तक करें ये प्रयोग ?

वैसे तो ये प्रयोग आपको 5 हफ़्तों में अपना रिजल्ट दिखा देगा, फिर भी हम आपको इसे 3 महीने तक इस्तेमाल करने का निर्देश देंगे। और ये जिन लोगों का अनुभूत किया है उन लोगों ने उन लोगों को भी सही किया है, जिनकी कैंसर में तीसरी और चौथी स्टेज थी।

ध्यान रखिये कि ये सब घरेलु नुस्खे हैं और ज़रूरी नहीं कि ये सबके लिए एक जैसा परिणाम दें. आप किसी भी नुस्खे को अपनाने से पहले किसी जानकार से सलाह कर लें.

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना न भूलें.

Leave a Reply