दूध पीने के भी हैं कुछ नियम! खुद भी जानिए और दूसरों को भी बताइये!

दूध को सम्पूर्ण आहार माना जाता है। लेकिन ये सभी के लिए भी नही है और साथ ही इसको पीने के भी कुछ नियम हैं। आज हम आपको इसी के बारे में बता रहे हैं।

लेकिन सबसे पहले आपसे गुज़ारिश है कि हमारे ऐसी ही बढ़िया बढ़िया जानकारी आगे भी आपको मिलती रहे, आप हमारे पेज Khabar Nazar को फेसबुक पर ज़रूर लाइक करें -> यहाँ क्लिक करें!

दूध को सुपर फ़ूड माना जाता है। आयुर्वेद में भी इसकी बेहद अहमियत है। यह पोषक तत्वों से भरा पड़ा है जैसे कैल्शियम, प्रोटीन, आयोडीन, पोटैशियम, फॉस्फोरस, विटामिन बी-2 और बी-12 आदि। यही सब मिलकर इसे सम्पूर्ण आहार बनाते हैं। दूध के रोजाना और नियमित सेवन से न सिर्फ शरीर ताकतवर बनता है बल्कि इम्युनिटी भी बढ़ती है। लेकिन इसके सेवन के भी कुछ नियम हैं। आज इसी के बारे में आपको बताया जा रहा है।

1. कब पियें दूध?

दूध पीने के लिए सबसे बढ़िया समय है रात को सोने से पहले। सोने से एक घंटा पहले अगर गुनगुना दूध पिया जाता है, तो दिन भर का तनाव दूर होता है और बढ़िया नींद आती है। रात के समय दूध पीने से इसे पचाने में आसानी होती है क्योंकि यह धीरे पचने वाला प्रोटीन है। लेकिन यही सबसे उत्तम दर्जे का प्रोटीन है। हालांकि बच्चे सुबह भी दूध पीते हैं, पर उनके लिए यह सही है क्योंकि उनके लिए इसे पचाना आसान है। बढ़ती उम्र के साथ दूध को रात को पीना ही बेहतर है।

2. कैसे पियें दूध?

दूध को गरम पियें तो उसके अलग फायदे और ठंडा पिया जाए तो उसके अलग फायदे हैं। दूध में मौजूद पोषक तत्व शरीर के लिए सबसे बेहतर तब हैं जब उसे गुनगुना या हल्का गरम पिया जाता है। लेकिन एसिडिटी या रिफ्लक्स की समस्या है तो ठंडा दूध बेहद कारगर है। हालांकि यह ध्यान रखने की बात है कि कच्चा दूध अगर न ही पिया जाए तो ज़्यादा अच्छा है। दूध को एक बार उबाल कर फिर ठंडा करके पीना ही सबसे सही रहता है, फिर चाहे गरम पिया जाए या ठंडा। लेकिन एक बार उबालना ज़रूरी है। इससे उसमें बैक्टीरिया होने की संभावना को खत्म किया जाता है।

ये भी पढ़े-

3. किसे दूध नही पीना चाहिए?

कुछ लोगों में “लैक्टोस इन्टॉलरांस” की समस्या होती है। इस समस्या के दौरान कुछ लोगों को डेयरी उत्पादों से एलर्जी होती है और उनका शरीर इनके सेवन पर प्रतिकूल व्यवहार करता है। ऐसे में दूध या दूध से बने अन्य उत्पादों में मौजूद शक्कर को पचाया जाना मुश्किल होता है और सेवन से उल्टी और अपच जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इनसे अलग जिन लोगों को खराब हाजमा रहता है वो भी दूध कम ही पियें।

4. क्या न खाएँ दूध के साथ?

दूध की तासीर के मुताबिक कुछ चीज़ें ऐसी हैं जो दूध के साथ या तुरंत बाद खाने से शरीर में बुरा प्रभाव पड़ता है। ये चीज़ें हैं –

  • खट्टी चीज़ें – दूध के साथ या तुरंत बाद खट्टे फल या दूसरी खट्टी चीज़ें कभी नहीं खानी चाहिए। इससे उल्टी या अन्य पाचन संबंधी समस्याएं होती हैं।
  • मांसाहार – अगर आप मांस मछली आदि खाते हैं कि उन्हें दूध के साथ तो कभी न खाएं। मछली और दूध की तासीर बिल्कुल उलट है। ऐसा कभी नहीं करना चाहिए।
  • नमकीन – दूध को मीठा या फीका तो पी सकते हैं लेकिन दूध और नमक का कहीं दूर दूर तक कोई मेल नही है। ना तो दूध में नमक डाला जाना चाहिए और न ही कोई नमकीन चीज़ दूध के साथ खानी चाहिए। खाने के साथ सब्ज़ी नमकीन होती है। ऐसे में भी खाने के साथ दूध नहीं लेना चाहिए।

इस तरह उलट तासीर की चीज़ें एक साथ खाने से शरीर में विषैले तत्व पैदा होते हैं, जो न केवल नुकसानदायक हैं बल्कि जानलेवा भी हो सकता है।

ये भी पढ़े-

5. क्या है दूध के साथ सबसे बेहतर?

जो चीज़ें ऊपर बताई गई उनके अलावा दूध लगभग सभी चीजों के साथ बढ़िया तालमेल बिठा लेता है। लेकिन हल्दी और खजूर या छुआरा ऐसी चीज़ें हैं जो इसके गुणों को और भी अधिक बढ़ देती हैं।

  • हल्दी – हल्दी में मौजूद एन्टी-बैक्टीरियल गुण दूध में मिलकर शरीर को जबरदस्त फायदा देते हैं। घाव को जल्दी भरना और बीमारियों से लड़ने की ताकत बढ़ाने हल्दी वाले दूध के सबसे बड़े फायदे हैं।
  • दूध हल्दी का लिंक
  • खजूर या छुआरा – दूध के साथ खाएं गए खजूर या छुआरे शरीर में ऊर्जा भर देते हैं और शरीर को हृष्टपुष्ट भी बनाते हैं।

 

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना न भूलें.

बिना कोई दुष्प्रभाव के साथ सुरक्षित आयुर्वेदिक धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/LYyy6LN3 Whats_app 7455-896433 करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply