fbpx

खीरा का छिलका खाइये मोटापे के साथ इन बीमारियों में मिलेगा फायदा

खीरा का छिलका खाइये मोटापे के साथ इन बीमारियों में मिलेगा फायदा, आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं. वजन घटना है तो पढ़ते रहिये! क्या आपके पेट का मोटापा बढ़ गया है? क्या( आप शरीर पर अतिरिक्तय चर्बी बढ़ने से परेशान है? अगर इन दोनों ही बातों का जवाब हां ये तो आपको अलर्ट हो जाना चाहिए। वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार फैट हेल्थत के लिए बेहद नुकसानदायक मानी जाती है और यह आपकी आतों, लीवर, पैंक्रियाज पर सबसे अधिक असर डालती है और इसके साथ ही आपकी लाइफस्टा इल को भी प्रभावित करती है।

गर्मियां आते ही खीरा हर घर की एक जरूरत बन जाता है. शरीर को ठंडक देने के लिए ये एक कारगर और नेचुरल उपाय है. मुख्य रूप से सलाद में प्रयोग होने वाले खीरे में बहुत कम मात्रा में कैलोरी पायी जाती है. यही वजह है कि यह मोटापा कम करने के इच्छुपक लोगों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. वैसे सिर्फ खीरा ही नहीं उसका छिलका भी बहुत उपयोगी है.

पर क्या औरों की तरह आप भी खीरे के छिलके को कूड़ेदान में डाल देती हैं? अगर आप ऐसा करती हैं तो हो सकता है कि आपको खीरे के छिलके के फायदों के बारे में पता न हो. जानना चाहेंगी खीरे के छिलके से आप क्या-क्या फायदे उठा सकती हैं:

मोटापा से निजात पाने के लिए आप क्या नहीं करते है जिससे कि इससे निजात मिल जाएं यहां तक की आप दवाईयों का भी सेवन करने लगते है, लेकिन आप ये जानते हुए कि इसके साइड इफेक्ट भी बहुत होते है फिर भी सेवन करने में पीछे नहीं हटते है।

ये भी पढ़े-

आज के समय में किसी से बीमारी से निजात पाने के लिए सबसे अच्छा है कि आप घरेलू उपाय को अपनाते है जो कि फायदेमंद भी होती है साथ ही कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। इसकी तरह आप खीरा का सेवन कर इस समस्या से निजात पा सकते है।

जी हां हम खीरा को सलाद के रुप में तो बहुत अधिक खाते है। यह हमारी हेल्थ के साथ-साथ स्किन के लिए भी काफी फायदेमंद है। इसका सेवन करने से आपके बॉडी में ठंडक और ताजगी आती है। खीरे का छिलका भी किसी से कम नहीं होता है। इसका सेवन करने से आप मोटापा सहित कई बीमारियों से निजात पा सकते है।

जानिए इसके फायदों के बारें में:-

निखारने में मदद

खीरे का छिलका आपकी स्किन को निखारने में मदद करता है। खीरे के छिलके को निकालकर सुखा लें। फिर उसे अच्छेि से पीसकर उसमें नींबू की कुछ बूदें मिला लें। अब एक कटोरे में इस पेस्ट को डालें और उसमें एलोवेरा जेल मिलाकर अपनी त्वचा पर लगाएं।

खीरा त्वचा को कई तरह की समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करता है जैसे टैनिंग, सनबर्न, रैशेज आदि। इसलिए रोजाना खीरा का छिलका खाएं।

पाचन के लिए फायदेमंद

खीरे के छिलके में ऐसे फाइबर मौजूद होते हैं जो घुलते नहीं है. ये फाइबर पेट के लिए संजीवनी बूटी की तरह काम करता है. कब्ज की परेशानी को दूर करने में भी ये कारगर है. खीरे के छिलके से पेट अच्छी तरह साफ हो जाता है.

वजन कम करने में सहायक

अगर आप वजन कम करना चाह रही हैं तो आज से खीरे के छिलके को अपनी डाइट का हिस्सा बना लें. वैसे तो खीरा भी वजन कम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन छिलके के साथ इसका सेवन करना और भी अधिक फायदेमंद रहता है.

विटामिन के का अच्छा माध्यम

खीरे के छिलके में विटामिन-के पर्याप्त मात्रा में मिलता है. ये विटामिन प्रोटीन को एक्टिटव करने का काम करता है. जिसकी वजह से कोशिकाओं के विकास में मदद मिलती है. साथ ही इससे ब्लड-क्लॉटिंग की समस्या भी पनपने नहीं पाती है.

आंखों के लिए

छिलके समेत खीरा खाने से आंख की रौशनी अच्छी रहती है. इसके छिलके में बीटा कैरोटीन होता है, जिससे आंखों की रौशनी अच्छी होती है.

त्वचा के लिए

टैनिंग और सनबर्न में भी खीरे के छिलके का इस्तेमाल फायदेमंद साबित होता है. इससे त्वचा का रूखापन भी कम होता है और मॉश्चराइजर बना रहता है. खीरा काटने के बाद आप उसके छिलके को हल्के हाथों से लगा सकती हैं. कई लोग इसके छिलके को सुखाकर पीस लेते हैं और उसमें गुलाबजल की बूंदें मिलकार फेस पैक की तरह इस्तेमाल करते हैं.

ये भी पढ़ें : –

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like ज़रूर करें!

आर्डर करने के लिए लिंक पर जायें – http://whatslink.co/weightloss

Weight Loose Kit – बिना जिम, भागदौड़ और डाइटिंग योग के वजन कैसे घटाया जाए जो वापस न बढे, इसकी जानकारी चाहिए!
घर बैठे कूरियर से भारत में कहीं भी किट पाने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/weightloss

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply