कसूरी मेथी के कमाल के फायदे जान हैरान हो जायेगे आप

कसूरी मेथी को अंग्रेजी में फेनूग्रीक सीड बोलते हैं और हिंदी में इसे मेथी के नाम से ही जाना जाता है। इसका प्रयोग पौधे और बीज दोनों रूप में किया जाता है। भारत में यह बहुत ही लोकप्रिय मसाला है, जिसका प्रयोग लगभग हर घर में किया जाता है। हरी सब्जी के रूप में यह ‘मेथी साग’ के नाम से अधिक लोकप्रिय है।

इसकी पत्तियों और बीज का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है। इसमें कई सारे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। पेट की समस्या से लेकर ब्लड ग्लूकोज को नियंत्रित करने वाले गुण के अलावा, इसमें बालों और त्वचा को निखारने के भी गुण मौजूद होते हैं।

हरी सब्जियों में से मेथी एक मात्र ऐसी सब्जी है जिसका इस्तेमाल रसोई घर में खानों का स्वाद बढाने से लेकर सेहत को दरुस्त रखने के लिए किया जाता है। मेथी सर्दी के मौसम में आती है। हरी मेथी के पत्तों को सूखाने के बाद उसे कसूरी मेथी के नाम से जाना जाता है।

कसूरी मेथी आम तौर पर एशिया के मेडेटेरियन क्षेत्र में पाया जाता है। मेथी में कईं तरह के जरूरी तत्व मौजूद होते हैं जिसके कारण इसको पौषक पूरक भी कहा जाता है। इस लेख में हम आपको कसूरी मेथी के फायदे और कसूरी मेथी के नुक्सान बताने जा रहे हैं।

दरअसल मेथी का इस्तेमाल सदियों से जड़ी बूटी की तरह किया जाता रहा है। वहीँ बात अगर कसूरी मेथी के करें तो मान शरीर को इसके अद्भुत लाभ हैं। कसूरी मेथी के सेवन करने से कईं तरह के रोगों से मुक्ति पाई जा सकती है।

कसूरी मेथी के फायदे :-

पेट की समस्या करें दूर :-

अस्वस्थ‍ खानपान के कारण आजकल पेट में गैस की समस्या आम हो गई है। ऐसे में मेथी की पत्तियां लीवर को मजबूत बनाकर पेट की दूसरी समस्याओं को भी दूर करती हैं। पेचिश और डायरिया की समस्या होने पर भी यह लाभदायक है। इसकी पत्तियों के अलावा बीज को पीसकर पाउडर बनाकर भी प्रयोग में ला सकते हैं। पेट की समस्या होने पर पत्तियों को सुखाकर पीस लें और इसमें नींबू की कुछ बूंदें मिक्स करें। इसके बाद इसे उबले हुए पानी के साथ लें।

कोलेस्ट्रॉल कम करे :-

शरीर में एलडीएल यानी बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अगर अधिक हो जाए, तो समस्या गंभीर हो सकती है। शरीर में जमा बैड कोलेस्ट्रॉल को निकालने के लिए कसूरी मेथी का प्रयोग करें। इसके लिए पानी में मेथी की पत्तियों को डालकर पूरी रात के लिए छोड़ दीजिए और अगले दिन पानी को छानकर पीजिए। इससे शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ेगी।

मधुमेह में फायदेमंद :-

मधुमेह होने के बाद देखभाल की बहुत अधिक जरूरत पड़ती है, दिन में कुछ भी खा लेने से कई बार शरीर में ब्‍लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है। इसे नियंत्रित करने के लिए मेथी का प्रयोग करें। इसमें एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं, जो ब्‍लड ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करते हैं। यह टाइप-2 डायबिटीज होने की संभावना को भी कम करता है। मधुमेह के रोगी अगर इसका नियमित सेव करें, तो उनका शुगर नियंत्रण में रहेगा।

दिल के लिए फायदेमंद :-

दिल के सबसे बड़े दुश्मन एलडीएल यानी बैड कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड और कोलेस्ट्रॉल हैं। शरीर में इनकी अधिकता से दिल कमजोर होने लगता है। वहीं दूसरी तरफ मेथी में वे सारे गुण मौजूद होते हैं, जिनसे ये सभी समस्याएं दूर होती हैं। यह दिल को स्वस्थ रखने के साथ खून के थक्के बनने से भी रोकता है। इसके सेवन से दिल के दौरे की संभावना को कम किया जा सकता है।

ये भी पढ़े-

त्वचा और बालों के लिए :-

त्वचा में मौजूद दाग-धब्बों को दूर करने के लिए कसूरी मेथी का प्रयोग करें। अगर चेहरे पर कोई निशान मौजूद है और वह नहीं जा रहा है, तो मेथी की पत्तियों को लगाने से निशान मिट जाएंगा। मेथी को पीसकर लें। इसमें पानी मिक्स करें।

इसका पेस्ट तैयार करके चेहरे पर लगाएं। कुछ मिनट बाद मुंह धो लें। इससे चेहरा बेदाग हो जाएगा। ऐसे ही आप इस विधि को अपनी स्कैल्प के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे आफके बाल मुलायम और मजबूत होंगे। सप्ताह में दो बार ऐसा करने से बालों का झड़ना भी बंद हो जाएगा।

पाचन तंत्र :-

इसमें रिच फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट पाया जाता है। ये एंटी ऑक्सीडेंट हानिकारक चीज़ों को शरीर से बाहर निकालने में और पाचनतंत्र को स्वस्थ बनाये रखने में सहायक है। कब्ज़ के रोगी यदि सुबह सुबह उठकर मेथी का शरबत ग्रहण करें, तो कब्ज़ ठीक हो सकता है।

आंत :-

अपच और लीवर खराब जैसे रोगों से बचने के लिए कसूरी मेथी सबसे अधिक फायदेमंद मानी जाती है। इसके लिए कसूरी मेथी के नियमित रूप से सेवन करने से गैस्ट्रिक और आँतों की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है। कसूरी मेथी को आप माउथ फ्रेशनर के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

कसूरी मेथी के नुक्सान :-

बहुत से लोगों को मेथी के इस्तेमाल से एलर्जी हो सकती है। ऐसे में यदि आप कसूरी मेथी का सेवन करना चाहते हैं तो इसके लिए आप उसके पेस्ट को त्वचा पर लगा कर एक बार जरुर जांच लें। त्वचा पर लगाने से यदि आपको जलन या एलर्जी महसूस हो तो इसका सेवन भूल से भी ना करें।

डॉ. के अनुसार कसूरी मेथी में ऐसे कईं पौषक तत्व मौजूद हैं जो आम इंसान के लिए सहायक साबित हो सकते हैं। लेकिन गर्भवती स्त्रीयों को कसूरी मेथी के अधिक सेवन से बचना चाहिए। दरअसल, कसूरी मेथी के अधिक सेवन से प्रेग्नेंट महिला का गर्भपात हो सकता है। इसलिए इसके सेवन से पहले अपने डॉ. से एक बार जरुर सलाह कर लें।
यदि आप किसी बिमारी से लंबे समय से पीड़ित हैं और उसकी दवाइयां खा रहे हैं तो कसूरी मेथी का सेवन करने से पहले अपने डॉ. से एक बार जरुर पूछ लें क्यूंकि कईं बार दूसरी दवाइयों के साथ इस मेथी का सेवन करना आपकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना, 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/tSQUZRpC या whats-app 742-885-8589 करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply