fbpx

कलौंजी के ये फायदे आपको कर देंगे हैरान – जानिए कैसे!

कलौंजी के बारे में आज हम आपको ऐसी जानकारी देने वाले हैं जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

कलौंजी का उपयोग भारतीय व्यंजनों और मसलों तथा अनेक प्रकार के रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। सबसे ज्यादा कलौंजी का उपयोग यूनानी दवाओं को बनाने में किया जाता है। अनगिनत रोगों को ठीक करने वाला कलौंजी का पौधा सोंफ के पौधे से थोड़ा छोटा होता है और इसमें हलके नीले और पीले फूल आते हैं, इनका बीज जिसको हम कलौंजी बोलते हैं वो काले रंग के होते हैं। कलौंजी लगभग हर घर में मौजूद रहने वाली चीज है।

आमतौर पर अचार में डाली जाने वाली कलौंजी स्वाद तो बढ़ाती है लेकिन लोग इसे ऐसे ही खाना पसंद नहीं करते। अचार से भी चुन-चुनकर अलग निकाल देते हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं ये छोटे-छोटे काले बीज आपकी सेहत के लिए कितने फायदेमंद हैं। इनका इस्तेमाल कई घरेलु नुस्खों में किया जा सकता है। ब्यूटी से लेकर हेयर तक और शरीर की कई बड़ी बीमारियों तक में कलौंजी का सेवन आपको बहुत फायदा पहुंचा सकता है। इसमें आयरन के साथ भरपूर मात्रा में सोडियम, कैल्शियम, पोटैशियम और फाइबर होता है। इसमें अमीनो एसिड और प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

आगे जानिए इसके कुछ घरेलु उपाय और फायदे: –

जोड़ों के दर्द के लिए

1कलौंजी का सेवन गरम पानी में करने से अस्थमा की समस्या और जोड़ों के पुराने दर्द में भी फायदा मिलता है। अगर आपको बहुत समय से खांसी की समस्या सता रही है तो भी आप कलौंजी के पानी को सुबह-सुबह पी सकते हैं। इस उपाय को आजमाने से आपको काफी राहत मिलेगी।

कैंसर के खतरे को करे कम

इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स भविष्य में कैंसर के खतरे को भी कम करते हैं। इसे रोजाना खाने से आप निकट भविष्य में कई गंभीर बीमारियों के खतरे से बच सकते हैं।

खांसी में फायदेमंद

इन बीजों का तेल भी इसतेमाल होता है। खांसी आदि में ये तेल बड़ी राहत पहुंचाता है।

खून साफ़ करता है

कलौंजी ब्लड प्यूरीफायर की तरह भी काम करती है। सुबह-सुबह खाली पेट पानी के साथ इसका सेवन करने से रक्त की अशुद्धियां दूर होती है।

बालों की समस्या के लिए

अगर आप बालों की समस्या से जूझ रहे हैं, बाल लगातार गिर रहे हैं। गंजापन बढ़ रहा है तो कलौंजी के तेल में ऑलिव ऑयल और मेंहदी पाउडर मिलाकर हल्का गर्म कर लें। अब इस मिश्रण को एक बोतल में रख दें। हफ्ते में दो बार सिर की मसाज करें।

मधुमेह

अगर आप मधुमेह और एसिडिटी के मरीज हैं तो आप रोज सुबह एक चम्मच कलौंजी के बीज गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। आपको राहत मिलेगी।

कील-मुंहासे

इन बीजों का सेवन आपकी स्किन से संबंधित कई परेशानियों को हल कर सकता है। खास तौर पर कील-मुंहासों की समस्याओं में काफी राहत मिलती है।

याददाश्त

इन्हें रोज खाने से ब्रेन पॉवर बढ़ती है और याद्दाश्त तेज होती है। बच्चों को इसका सेवन बचपन से ही कराना चाहिए। गर्भावस्था में इसका सेवन नहीं करना चाहिए, प्रेगनेंसी में इसका सेवन करने से अबॉर्शन का खतरा रहता है। इसीलिए ज्यादा अचार खाने से गर्भवती को मना किया जाता है।

बाल झड़ने के लिए

इन बीजों को जलाकर पीसकर ऑलिव ऑयल में मिलाकर सिर पर मसाज करने से नए बाल उगने लगते हैं।

अगर गंजापन बढ़ रहा है तो बालों में 20 मिनट तक नींबू के रस से मसाज करें। फिर कलौंजी का तेल इस्तेमाल करें। हफ्ते में 2 से 3 दिन ऐसा करने से बालों के गिरने की प्रॉब्लम दूर होती है।

त्वचा के लिए

मीठे नीबू का रस एक कप और कलौंजी तेल आधा चम्मच के संयोजन से एक मिश्रण बनाए। सुबह और रात में बिस्तर पर जाने से पहले चेहरे पर लगाएं। यह त्वचा की चमक को बढ़ाता है तथा पिम्पल्स और किसी अन्य काले धब्बों से बचाता है।

दाग-धब्बों के लिए

सिरका एक कप और कलौंजी का तेल आधा चम्मच का मिश्रण सुबह और बिस्तर पर जाने से पहले चहरे पर लगाये। इस से सफेद या काले धब्बे को रोका जा सकता है।

वजन कम करने के लिए

मोटापा कम करने में कलोंजी को अपनाया जा सकता है। इसके लिए कलौंजी तेल आधा चम्मच और हनी 2 चम्मच के मिश्रण को गुनगुने पानी के साथ लिया जा सकता है। इस मिश्रण को एक दिन में तीन बार लिया जा सकता है।

चेहरे के सौन्दर्य के लिए

कलौंजी तेल से ओलिव तेल 50 ग्राम और कलौंजी तेल 50 ग्राम का मिश्रण तैयार करे। नाश्ते से पहले इस मिश्रण के चम्मच ले। यह आपकी त्वचा को चमक दमक बनाने में मददगार साबित होगी। ताजगी और सौंदर्य पाने के लिए इस फार्मूला को एक सप्ताह तक जारी रखें।

पेट दर्द के लिए

कांलौजी का तेल पेट दर्द को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पेट दर्द से राहत पाने के लिए कलौंजी तेल आधा चम्मच, काला नमक और गर्म पानी आधा ग्लास लेने से बहुत हद तक पेट के दर्द का इलाज किया जा सकता है। बेहतर परिणाम के लिए दिन में दो या तीन बार इस मिश्रण को पीते रहे।

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like ज़रूर करें!

http://whatslink.co/BreastPlus

घर बैठे गुप्त डिलीवरी लेने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/BreastPlus

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply