fbpx

चेहरे की झुरियों को हटाने के कुछ आसान उपाय अजमा के देखे और फिर देखे कमाल

तनाव, प्रदूषण या बढ़ती उम्र के कारण चेहरे पर झुर्रियां, झाइयां और कालापन छाने लगता है। किशोर वर्ग मुंहासे, फुंसियां आदि के कारण परेशान रहते हैं। यह स्थिति पर्सनैलिटी को अट्रैक्टिव नहीं रहने देती। यहां प्रस्तुत है चमकदार चेहरे के लिए कुछ योगा टिप्स।

 कैसे मिटाएं चेहरे की झुर्रियां-

स्टेप 1- पहले सावधान मुद्रा में खड़े होकर फिर पैरों को 1 फुट की दूरी पर फैला लें। चेहरे को हथेलियों से ढंक लें और 10 बार तेज गहरी श्वास लें। इसके बाद चेहरे, आंखों और माथे को हल्के-हल्के 2 मिनट तक अंगुलियों से रगड़ें।

स्टेप 2- मुंह से लंबी श्वास खींचें और 1 मिनट के लिए अंदर ही रोकें, फिर हवा को धीरे-धीरे नाक से बाहर निकाल दें। इस क्रिया को कम से कम 5 बार करें।

स्टेप 3- आंखों के लिए जीभ को यथासंभव बाहर निकालकर आंखों को लगभग 1 मिनट तक जितना हो सके, फैलाने का प्रयास करें। इससे आंखों के नीचे की झुर्रियां हटती हैं और आंख संबंधी परेशानी दूर होती है।

स्टेप 4- झुर्रियां मिटाने में योग की कपोल शक्ति विकासक विधि कारगर है। इसके लिए पहले दोनों हाथों की अंगुलियों के अग्र भाग को आपस में मिलाते हैं, फिर दोनों अंगूठों से नाक के दोनों छेद को बंद कर लेते हैं। इस दौरान दोनों कोहनियों को कंधों की सीध में रखें।

अब मुंह को चोंच की तरह बनाते हुए श्वास लेते हैं और गाल फुलाते हैं और ठोड़ी को छाती की ओर दबाते हैं। इस दौरान छोटी अंगुली छाती से स्पर्श रहेगी। फिर कुछ पल के लिए आंखें बंद करते हुए इस स्थिति में 5 सेकंड श्वास रोककर रह सकते हैं।

फिर आंखें खोलते हुए गर्दन सीधी करते हैं। अंगूठों को नाक से हटाकर श्वास को धीरे-धीरे बाहर निकाल देते हैं। इस क्रिया को 5 बार दोहरा सकते हैं।

उक्त क्रिया के अभ्यास से पिचके हुए गाल भर जाते हैं। झाइयां और आंखों के नीचे का कालापन दूर होता है। गाल पर होने वाले मुंहासे, फुंसियां आदि का निकलना बंद हो जाता है और गाल पर लाली छा जाती है। चेहरे की ग्लोइंग एंड सॉफ्ट स्किन हो जाती है।

आप चाहें तो कुंजल क्रिया, जलनेति, योग मुद्रा, विपरीत करणी, सर्वांगासन, हलासन, मत्स्येन्द्रासन, सुप्त कटि चक्रासन, सुप्त कोणासन, पश्चिमोत्तानासन और उत्तान पादासन कर सकते हैं। उपरोक्त सभी कुछ किसी योग प्रशिक्षक की देखरेख में ही करें।

ये भी पढ़े-

योगा पैकेज-

सबसे पहले तनाव को दूर रखते हुए अच्छा फील करें। मसालेदार भोजन छोड़कर भोजन को शुद्ध प्रोटीनयुक्त तथा सात्विक बनाएं। सलाद का उपयोग ज्यादा करें। नेगेटिव सोच को स्वयं पर हावी न होने दें। प्राणायाम, मौन और ध्यान का नियमित अभ्यास करें।

झुर्रियों से बचने के उपाय-

1. त्वचा के लिए जरूरी है कि पौष्टिक भोजन किया जाए, क्योंकि पौष्टिक भोजन शारीरिक अंगों की कार्यक्षता बढ़ाकर त्वचा तक अच्छा पोषण पहुंचने में सहायक होता है।

2. त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने के लिए प्रोटीन, विटामिन, ए, बी और सी, से युक्त खाध पदार्थ भरपूर मात्रा में लेना चाहिए प्रोटीन के चलते ही त्वचा में लचीलापन बनाए रहता है, यानी जब हम त्वचा को खीचकर छोड़ देते है तो वह फिर से अपने स्थान पर आ जाती है।

3. एक व्यस्क आदमी को कम से कम ढाई लीटर पानी जरूर पीना चाहिए।

4. तेज धुप में अधिक देर तक न रहें और जब भी धुप में निकलें, धुप का चश्मा अवश्य लगा लें धुप का चश्मा भी आँखों के डॉक्टर की सलाह से ही खरीदे।

5. जो आदमी अपने चेहरे को जितना भी आरामदेह मुद्रा में रखते है, उनके चेहरे पर जल्दी झुर्रियां पड़ने का खतरा नही रहता है शांत चेहरा खूबसूरत भी नजर आता है।

6. साबुन का इस्तेमाल जहां तक हो सके कम-से-कम करें और कैमिकल युक्त सौंदर्य प्रसाधन के प्रयोग से बचने का प्रयास करें सौंदर्य प्रसाधनों में हर्बल सौंदर्य प्रसाधनों को प्रमुखता दें।

नोट : इस आर्टिकल में दी गई जानकारियां रिसर्च पर आधारित हैं । इन्‍हें लेकर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूरी तरह सत्‍य और सटीक हैं, इन्‍हें आजमाने और अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ये भी पढ़ें :

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करकेऔरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना ना भूले!

सुखी और संतुष्ट वैवाहिक जीवन के लिए अपनी टाइमिंग बढ़ाएं,
घर बैठे पूरे भारत में 100% आयुर्वेदिक डॉ नुस्खे हॉर्स किट की गुप्त डिलीवरी पाएं!

इस लिंक पर क्लिक करके सुरक्षित आर्डर करें!
http://whatslink.co/Horsekit

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply