गिलोय के औषधीय गुण जान हैरान हो जायेगे आप

नमस्कार, आज मैं आपको आज गिलोय के फायदों के बारे में बताने जा रही हूँ.

लेकिन सबसे पहले आपसे गुज़ारिश है कि हमारे ऐसी ही बढ़िया बढ़िया जानकारी आगे भी आपको मिलती रहे, आप हमारे पेज Khabar Nazar को फेसबुक पर ज़रूर लाइक करें -> यहाँ क्लिक करें!

गिलोय के फायदे और नुकसान जान कर आप हैरान रह जाएगें। क्‍योंकि साधारण सी दिखने वाली गिलोय में आयुर्वेदिक औषधीय गुण होते हैं। यही कारण है कि आयुर्वेद का ज्ञान रखने वाले लोग गिलोय का उपयोग विभिन्‍न प्रकार के रोगों के लिए करते हैं। जड़ी बूटी होने के नाते गिलोय के फायदे मधुमेह को नियंत्रित करने, पाचन को सुधारने, अस्‍थमा का इलाज करने, गठिया का उपचार करने, आंखों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने और कैंसर के लक्षणों को कम करने के लिए होते हैं। आज इस आर्टिकल में आप लगभग लुप्‍तप्राय जड़ी बूटी गिलोय के फायदे और नुकसान जानेगें। आइए जाने गिलोय के बारे में।

गिलोय औषधीय गुणों से भरपूर एक जड़ी बूटी है जिसका आयुर्वेद में व्‍यापक उपयोग किया जाता है। कुछ लोग गिलोय को गुडूची के नाम से भी जानते हैं। गिलोय का वैज्ञानिक नाम टीनोस्‍पोरा कोर्डिफ़ोलिया (Tinospora Cordifolia) है। इस औषधी का उपयोग किसी भी उम्र के महिला पुरुषों के लिए किया जा सकता है। यह एक प्रकार की वेल होती है जो दूसरे पेड़ों की सहायता से ऊपर की तरफ बढ़ती है। इस वेल के सभी हिस्‍सों का औषधीय उपयोग किया जा सकता है। लेकिन इसके तने और जड़ का विशेष उपयोग है। गिलोय का उपयोग इसके रस, पेस्‍ट और कैप्‍सूल आदि के रूप में किया जाता है। आइऐ जाने गिलोय पौधे के बारे में।

गिलोय के औषधीय गुण-

खांसी के इलाज के लिए गिलोय-

बहुत पुरानी खांसी के इलाज के लिए गिलोय के रस का सेवन किया जाता है। दो चम्मच गिलोय का रस हर रोज सुबह लेने से खांसी से काफी राहत मिलती है। यह उपाय तब तक आजमाए जब तक खांसी पूरी तरह ठीक ना हो जाए।

पैरो में जलन-

कुछ लोगों को पैरों में बहुत जलन होती है. कुछ ऐसे भी होते हैं जिनकी हथेलियां हमेशा गर्म बनी रहती हैं. ऐसे लोगों के लिए गिलोय बहुत फायदेमंद है. गिलोय की पत्त‍ियों को पीसकर उसका पेस्ट तैयार कर लें और उसे सुबह-शाम पैरों पर और हथेलियों पर लगाएं. अगर आप चाहें तो गिलोय की पत्त‍ियों का काढ़ा भी पी सकते हैं. इससे भी फायदा होगा.

ये भी पढ़े-

कान में दर्द-

अगर आपके कान में दर्द है तो भी गिलोय की पत्त‍ियों का रस निकाल लें. इसे हल्का गुनगुना कर लें. इसकी एक-दो बूंद कान में डालें. इससे कान का दर्द ठीक हो जाएगा.

जलन दूर करें-

अगर आपके पैरों में जलन होती है और बहुत उपाय करने के बाद भी आपको कोई फायदा नहीं हो रहा है तो आप गिलोय का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए गिलोय के रस को नीम के पत्ते एवं आंवला के साथ मिलाकर काढ़ा बना लें। प्रतिदिन 2 से 3 बार इस काढ़े का सेवन करें इससे हाथ पैरों और शरीर की जलन दूर हो जाती है।

गिलोय के फायदे बुखार करे ठीक-

गिलोय में antipyretic गुण पाए जाते हैं इसलिए इस हर्ब को बुखार कम करने वाली आयुर्वेदिक दवाइयों में इस्तेमाल किया जाता है| गिलोय को शहद के साथ लेने से मलेरिया का बुखार भी दूर हो जाता है|
आजकल चिकनगुनिया जैसे वायरल बुखार के ठीक होने के बाद भी मरीज महीनों तक जोड़ों के दर्द से परेशान रहते है इस स्थिति में गिलोय की पत्तियों से बना काढ़ा लाभ करता है | इसमें 10-20 मि.ली. अरंडी के तेल को मिलाकर पीने से और भी लाभ मिलता है।

गिलोय का रस तनाव कम करे-

अध्‍ययनों से पता चलता है कि तनाव कई बीमारियों का प्रमुख कारण होता है। तनाव न केवल व्‍यक्तिगत जीवन को प्रभावित करता है बल्कि स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी हानिकारक है। यदि आप तनाव से छुटकारा चाहते हैं तो गिलोय जूस का उपयोग कर सकते हैं। गिलोय के रस में एडाप्‍टोजेनिक (adaptogenic) गुण होते हैं। जिसके कारण यह मानिसक तनाव और चिंता आदि को कम करने में मदद करता है। नियमित रूप से गिलोय रस का सेवन शरीर से विषाक्‍त पदार्थों को बाहर करने में सहायक होता है। इसके अलावा मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए भी गिलोय को अन्‍य जड़ी बूटीयों के साथ उपयोग किया जाता है। यदि आप तनाव और अवसाद जैसी समस्‍या से ग्रसित हैं तो गिलोय के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

उल्टियां में फायदेमंद-

गर्मियों में कई लोगों को उल्‍टी की समस्‍या होती हैं। ऐसे लोगों के लिए भी गिलोय बहुत फायदेमंद होता है। इसके लिए गिलोय के रस में मिश्री या शहद मिलाकर दिन में दो बार पीने से गर्मी के कारण से आ रही उल्टी रूक जाती है।

मोटापा कम करे-

गिलोय मोटापा कम करने में भी मदद करता है। मोटापा कम करने के लिए गिलोय और त्रिफला चूर्ण को सुबह और शाम शहद के साथ लें। या गिलोय, हरड़, बहेड़ा, और आंवला मिला कर काढ़ा बनाकर इसमें शिलाजीत मिलाकर पकाएं और सेवन करें। इस का नियमित सेवन से मोटापा रुक जाता है।

ये भी पढ़े-

गिलोय का सेवन गठिया का इलाज करे-

गंभीर बीमारी के रूप में गठिया को जाना जाता है जिसमें शरीर के जोड़ वाले हिस्‍सों में दर्द और सूजन होती है। यह बहुत ही कष्‍टदायक रोग है जिसका प्रभावी इलाज गिलोय से किया जा सकता है। गिलोय में एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटी आर्थ्रिटिक गुण होते हैं। इन गुणों के कारण गिलोय का उपयोग गठिया के लक्षणों को कम कर सकता है। गठिया के दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप गिलोय के तने को सुखा कर पाउडर बना लें। इसके बाद इस पाउडर को दूध के साथ उबालकर सेवन करें। यह गठिया के इलाज में अहम योगदान देता है। इस तरह से आप भी गिलोय का सेवन कर गठिया का उपचार कर सकते हैं।

खुजली दूर भगाएं-

खुजली अक्‍सर रक्त विकार के कारण होती है। गिलोय के रस पीने से रक्त विकार दूर होकर खुजली से छुटकारा मिलता है। इसके लिए गिलोय के पत्तों को हल्दी के साथ पीसकर खुजली वाले स्थान पर लगाइए या सुबह-शाम गिलोय का रस शहद के साथ मिलाकर पीएं।

गिलोय के अन्य स्वास्थ्य लाभ – Other health benefits of Giloy in hindi

  • स्वास्थ लाभ में गिलोय के रस से शरीर में रक्त बढ़ता है। रक्ताल्पता (एनीमिया) के रोगी को गिलोय के रस का सेवन करने से बहुत लाभ होता है।
  • गिलोय के रस का सेवन करने से हृदय की निर्बलता ठीक होती है। गिलोय के फायदे द्वारा हृदय को शक्ति मिलने से दिल की कई बीमारियाँ दूर रहती है।
  • सभी तरह के बुखारो को ठीक करने के लिए गिलोय का रस अत्यंत गुणकारी औषधि है।
  • पीलिया रोग में गिलोय की पत्तियों का पाउडर शहद के साथ लेने से लाभ होता है इसके अतिरिक्त इसकी पत्तियों का काढ़ा बनाकर पीने से भी पीलिया की बीमारी में मरीज को फायदा होता है |

गिलोय के नुकसान-

  • अधिक मात्रा में गिलोय का उपभोग कब्‍ज और पेट की समस्‍याओं को बढ़ा सकता है।
  • स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक होने के बाद भी गर्भवती महिलाओं को बिना डॉक्‍टर की अनुमति के गिलोय का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • मधुमेह संबंधी रोगी को दवाओं के साथ गिलोय का सेवन नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि यह शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर को बहुत ही कम कर सकता है।

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारेफेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazarपर Like करना न भूले.

बिना कोई दुष्प्रभाव के साथ सुरक्षित आयुर्वेदिक धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/LYyy6LN3 Whats_app 7455-896433 करें!

Leave a Reply