गेहूं और इससे बनने वाले चोकर के औषधीय लाभ और आयुर्वेदिक गुण आपको हैरान कर देंगे.

गेहूं आम भारतीय परिवारों का मुख्य आहार है। इसको पीसकर इसके आटे से गरमागरम चपातियां व दूसरे तमाम व्यंजन तो बनाए जाते हैं। इसका अपना अलग औषधीय महत्त्व भी होता है तथा चिकित्सा जगत में इसके औषधीय प्रयोग भी किए जाते हैं।

आइये, इसके प्रमुख गुणों के बारे में जानें। – गेहूं शक्तिवद्र्धक होता है। इसके निरंतर सेवन से शरीर को शक्ति मिलती है। इसके दानों को भिगोकर या उबालकर खाने से शरीर को काफी ऊर्जा मिलती है। – गेहूं की पत्तियों का रस अत्यंत लाभप्रद होता है। यह न सिर्फ रक्तशोधक का कार्य करता है बल्कि स्नायु दुर्बलता को भी दूर करता है।

यह शरीर के विषैले तत्वों को बाहर करने में मददगार साबित होता है। – शारीरिक रूप से दुर्बल व्यक्ति यदि प्रतिदिन तीन चार गिलास गेहूं की पत्तियों का रस पिएं तो वे शीघ्र हृष्ट-पुष्ट हो सकते हैं। – गेहूं की पत्तियों (ज्वारों) का रस शहद मिलाकर पीने से भी फायदा करता है। इससे पेट साफ रहता है। – गेहूं के अंकुरित दानों को चबाने से मुख की दुर्गन्ध तो दूर होती ही है, दांत और मसूड़े भी इससे मज़बूत होते हैं। – गेहूं की बालियां भूनकर भी खायी जाती हैं।

इन्हें भूनकर खाने पर स्वाद व लाभ दोनों प्राप्त होते हैं। – गेहूं के आटे का चोकर विशेष रूप से कब्ज़ आदि की शिकायत में अत्यंत लाभप्रद सिद्ध होता है। चोकर की रोटी बनाकर खाने से कब्ज़ में आराम मिलता है। बवासीर के रोगी के लिए भी चोकर की रोटी फायेदमंद रहती है।

गेंहूं की बात करें तो इसके चोकर में बहुत सारे लवण और विटामिन होते हैं. इसी वजह से इसे आदर्श रेशा भी कहा जाता है. चोकर वाला आटा इस्तेमाल करना इसलिए ज्यादा जरूरी है क्योंकि जो तत्व हमें चोकर से मिलते हैं वो और कहीं से नहीं मिल पाते हैं.

अब जानिए चोकर के फायदे

  • आटे से बने रोटी का सेवन तो हर घरों में किया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि अब के आटे को रिफाइंड कर करके उसकी चोकर को निकाल दिया जाता है, जिसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होता है। पहले के जमाने में चक्की से आटा को पिसा जाता था जो अधिक गुणकारी होता था। आइए जानते हैं चोकर से मिलने वाले फायदे के बारे में।
  • चोकर मे आयरन, कैल्शियम और विटामिन D जैसे बहुत तत्व होते है । जो शरीर मे रक्त बढ़ाते है और हड्डियों को मजबूत करते है ।
  • जो भी व्यक्ति यह चाहता है की उसके शरीर मे कोई मल न रहे, कब्ज जैसी बीमारिया न हो और पेट साफ रहे तो उसे चोकर को अपने खाने मे शामिल करना चाहि

ये भी पढ़े-

 

  • अगर आंतो मे मल रुकता है तो उससे सड़ांध पैदा होती है और गैस बनती है जिससे तरह तरह के पेट के रोग होते है इसलिए हमे अपने खाने मे चोकर का प्रयोग करना चाहिए । यह आंतो मे मल को रुकने नही देता है । जिससे पेट साफ रहता है ।
    यह शुगर को भी कंट्रोल करता है ।
  • यह दिल के रोगों और कोलेस्ट्रॉल से भी रक्षा करता है ।
  • यह बवासीर होने से बचाता भी है और निजात भी दिलाता है ।
  • मोटापे को कम करने मे भी सहायक है ।
    यह शुगर को भी कंट्रोल करता है ।
  • यह दिल के रोगों और कोलेस्ट्रॉल से भी रक्षा करता है ।
  • यह बवासीर होने से बचाता भी है और निजात भी दिलाता है ।
  • मोटापे को कम करने मे भी सहायक है ।
  • चोकर युक्त आटे का प्रयोग कोलेस्ट्रॉल को कम करने में अहम भूमिका निभाता है, अत: मोटापे एवं हार्ट के मरीजों के लिए चोकर युक्त आटे का प्रयोग बेहद फायदेमंद साबित होता है।
  • शारीरिक श्रम करने वालों को इसका सेवन अवश्य करना चाहिए क्योंकि यह अत्यधिक ऊर्जा प्रदान करता है।

  • चोकर के लिए आप एक तो जब भी आटा पिसवायें उसको थोडा मोटा पिसवायें और रोटी बनाते समय जब इसको छानते हैं तो छानने के लिए मोटी छन्नी का प्रयोग करें. बस इतना सा ही काम है. आटा जितना बारीक होगा स्वास्थय के दृष्टि कोण से उतना ही बेकार होगा.

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना ना भूले!

धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना, 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/tSQUZRpC या whats-app 742-885-8589 करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply