fbpx

ढीले लटकते हुए पेट की चर्बी को कम करने का सबसे सरल उपाय

क्‍या आपका पेट ढ़ीला लटका हुआ है। जब‍ आप चलते हैं या कुछ काम करते हैं, तो आपका पेट धीरे-धीरे झूलता और लटकता हुआ दिखाई देता है। इसके कारण कभी-कभी आपको शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ती है। कितनी भी कोशिश करने पर भी कोई खास सुधार नही हो रहा है! तो यहां दिया उपाय आपके लिए मददगार हो सकता है।

पेट लटकने की मुख्‍य कारणों में हमारा दोषपूर्ण खानपान, शरीरिक परिश्रम का अभाव के अलावा गर्भावस्‍था है। सबसे बड़ा सवाल है कि क्‍या इसकी वजह स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति हमारी लापरवाही है। लेकिन घबराएं नहीं आपके ढ़ीले पेट के लिए हमारे पास एक प्राकृतिक उपाय मौजूद है।

जीं हां अदरक, नीबू और एलोवेरा का मास्‍क आपके ढ़ीले पेट को सही रूप देने में मदद कर सकता है।

अदरक एक थर्मोजेनिक एजेंट है, जो आपके शरीर के तापमान को बढ़ाता है और कसे मसल्‍स को खत्‍म करता है। हमारे शरीर के लिए नीबू का भी अहम रोल है। विटमिन सी उत्‍पादन में नींबू सबसे अच्‍छा माना जाता है। जो स्किन के लचीलेपन को दुरूस्‍त रखता है।

इसके अलावा एलोवेरा में पाया जाना वाला मैलिक एसिड स्किन को टाइट करता है। इस पूरे मास्‍क पैक में शहद का बहुत अच्‍छा रोल है। यह एंटी एजिंग होने के साथ-साथ एंटी-ऑक्‍सीडेंट होता है, जो लचीले पेट को एक आकार देने में मदद करता है।

ये भी पढ़े –

आप पेट के लचीलेपन से परेशान हैं। अच्‍छा खानपान और व्‍यायाम जरूरी। अदरक, एलेवेरा मास्‍क का करें इस्‍तेमाल, मास्‍क का प्रयोग हो सकता है फायदेमंद।

क्या होते हैं मोटापे के कारण –

कैलरी युक्त आहार, जंक फूड, पेय पदार्थों का अधिक सेवन करने तथा फलों और सब्जियों का सेवन कम करने से व्यक्ति मोटापे का शिकार हो सकता है.

कुछ लोगों में मोटापा कई बीमारियों के कारण भी हो सकता है.

कुछ दवाओं के कारण भी कई बार व्यक्ति का वजन बढ़ जाता है. ऐसे में आपको आहार और व्यायाम पर ध्यान देना चाहिए.

गर्भावस्था में महिलाओं का वजन बढ़ना अनिवार्य है. लेकिन, कई बार यह बाद में मोटापे का कारण बन जाता है.

पूरी नींद न लेने से शरीर में हॉर्मोनल बदलाव होते हैं, जिससे भूख बढ़ती है.

मास्‍क बनाने के जरूरी सामग्री-

  • 2 चम्‍मत अदरक का पाउडर
  • 1 चम्‍मच प्‍योर एलोवेरा जेल
  • 1 चम्‍मच शहद
  • 1 चम्‍मच नीबू का रस

मास्‍क तैयार करने की विधि-

अदरक पाउडर, एलोवेरा जेल, शहद और नीबू को मिक्‍स कर लीजिए। इसे तक मिलाइए जब तक यह पूरी तरह से मिक्‍स न हो जाए। इसके बाद इसे आप अपनी त्‍वचा पर लगा सकते हैं।

ये भी पढ़े-

मास्‍क को ऐसे लगाएं-

  • तैयार मास्‍क को नाभि के आस-पास लागाएं।
  • 15 से 20 मिनट तक मास्‍क को लगा रहने दें।
  • इसके बाद इसे गुनगुने पानी से धो लें। फिर साबुन के साथ ठंडे पानी से धोएं।
  • इस मास्‍क के लगातार इस्‍तेमाल से एक माह के बाद आपको रिजल्‍ट दिखने लगेगा। हालांकि एक्‍सरसाइज करना न भूलें।
  • इसके अलावा लटके पेट की समस्‍या से बचने के लिए आपको सबसे पहले शरीर के विषाक्‍त पदार्थों को बाहर निकालना होगा।
  • इसके लिए नमक और चीनी का सेवन करें।
  •  भोजन में विटामिन सी और ओमेगा -3 फैटी एसिड संबंधी खाना खाएं। यह हमारे शरीर के लचीलेपन को बनाएं रखता है।
  • इसके अलावा सप्‍ताह में कम से कम तीन बार व्‍यायाम करें, जिसमें पेट की मजबूती और फैट कम करने वाले एक्‍सरसाइज पर ज्‍यादा ध्‍यान रहे।
  •  यह आपकी स्किन को मॉस्‍चुराइज करने के साथ पेट के ढ़ीलेपन को सही करेगा।
  • पेट की चर्बी कम करने की यह जंग आपको सुबह-सवेरे ही आरंभ करनी होगी। सुबह खाली पेट एक ग्लास गर्म पानी में आधा नींबू निचोड़कर पिएं। इसमें शहद मिलाकर पीने से फायदा अधिक मिलेगा। इससे मेटाबॉलिजम तेज होता है और फैट्स जल्दी बर्न होते हैं।

नोट : इस आर्टिकल में दी गई जानकारियां रिसर्च पर आधारित हैं । इन्‍हें लेकर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूरी तरह सत्‍य और सटीक हैं, इन्‍हें आजमाने और अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये।

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं।

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like ज़रूर करें!

आर्डर करने के लिए लिंक पर जायें – http://whatslink.co/weightloss

Weight Loose Kit – बिना जिम, भागदौड़ और डाइटिंग योग के वजन कैसे घटाया जाए जो वापस न बढे, इसकी जानकारी चाहिए!
घर बैठे कूरियर से भारत में कहीं भी किट पाने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/weightloss

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply