fbpx

दूध में उबाल कर खाया लहसुन देगा इतने फायदे कर देंगे हैरान – ज़रूर पढ़िए!

आयुर्वेद के अनुसार लहसुन वाला दूध पीने से 7 प्रकार की परेशानियां को दूर किया जा सकता है। आयुर्वेदिक नुस्खों का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। इसलिए ये काफी पॉपुलर होते हैं। आयुर्वेद से बॉडी पेन से लेकर टीवी तक की बीमारी को ठीक किया जा सकता है।

आयुर्वेद में एमडी नवीन जोशी बताते हैं कि लहसुन वाला दूध बहुत गुणकारी है। इसे बनाने का तरीका बहुत ही आसान है इसके लिए आपको एक गिलास गर्म दूध में 3 चम्मच पानी डाल दें। इसके बाद 5 लहुसुन की कलियों को घिसकर इसके रस को दूध में मिला दें। अब इस दूध को रात को सोने से पहले पी लें।

कब्ज को करता है दूर

आयुर्वेद के अनुसार ये दूध आपके वॉवेल मूवमेंट को इम्प्रूव करता है इसके साथ ही ये रात को स्टूल को सॉफ्ट कर देता है जिससे कब्ज की परेशानी दूर हो जाती है।

हाई कॉलेस्ट्रोल को कम करता है

यह दूध हाई कॉलेस्ट्रॉल को कम करता है। ये ब्लड वेसल्स को फैलाकर देता है। कॉलेस्ट्रॉल को डिसॉल्व कर ये हाई कॉलेस्ट्रॉल की रिस्क को कम करता है।

गैस और एसिडिटी को दूर करता है

ये दूध हेल्दी और डाइजेस्टिव ज्यूस को प्रोड्यूस करके इनडाइजेशन, एसिडिटी और गैस की परेशानियों को खत्म कर देता है।

माइग्रेन के दर्द को दूर करता है

आयुर्वेद के अनुसार ये दूध माइग्रेन के दर्द को भी दूर करता है। एंटी फ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज होने के कारण ये दर्द को दूर कर देता है।

पावर बढ़ाता है

यह पुरुषों की पावर को बढ़ाने का काम करता है। इससे शीघ्रपतन जैसी परेशानियों में भी छुटकारा मिल जाता है।

एंटी एजिंग

इस आयुर्वेदिक रेमेडी में बॉडी टिशूज और सेल्स को नया करने की क्षमता पाई जाती है। यह सेल्स की अर्ली एजिंग को रोकता है।

ज्वॉइंट पेन

ज्वॉइंट पेन के लिए यह दूध सबसे अच्छी रेमेडी है। दूध और लहसुन दोनों में सूजन और जलन को खत्म करने की प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं। ये दूध सूजन को खत्म कर दर्द को भी दूर करता है।

ये भी पढ़े-

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like ज़रूर करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply