fbpx

डायबिटीज रोगी के लिए दिन भर का डाइट चार्ट – मधुमेह आहार चार्ट (Diabetic Diet Plan)

डायबिटीज के मरीजों में ज़्यादातर इस बात को लेकर और अधिक चिंता बनी रहती है कि क्या खाएं और क्या न खाएं. आज हम आपको इसी के बारे में बता रहे हैं.

लेकिन सबसे पहले आपसे गुज़ारिश है कि हमारे ऐसी ही बढ़िया बढ़िया जानकारी आगे भी आपको मिलती रहे, आप हमारे पेज Khabar Nazar को फेसबुक पर ज़रूर लाइक करें -> यहाँ क्लिक करें!

Diabetic Diet Plan – शुगर को बढ़ने से रोकने तथा नियंत्रण और यहां तक कि काफी हद तक पूरी तरह से ठीक करने में काफी सहायक सिद्ध हो सकता है.

एक Diabetic Patient को अपने भोजन को चुनने में बहुत सावधानी बरतनी चाहिए,जैसे कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट कम से कम लेना चाहिए.

क्या खाना है क्या नही और किस वक़्त क्या खाना सही रहेगा!

इसलिए हम आपको बता रहे है एक आदर्श Diabetic Diet Plan जिसमे यह बताया गया है की मधुमेह से पीड़ित रोगी क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए.

साथ ही साथ इससे उन लोगो को भी लाभ मिलेगा जो इस बीमारी से बचना चाहते है.

क्योंकि “क्या न खाए” के भाग में जिन चीजो को रखा गया है उनकी मात्रा आज ही अपनी थाली से कम करे , क्योंकि एक सही डायबिटीज डाइट इस रोग को काबू करने में काफी मदद करती है.

वैसे भी रोगों से बचाव ही सबसे अच्छा उपचार होता है. क्या बीमारी का इलाज तो है पर उस से आपको बहुत परेशानी उठानी पड़ सकती है!

डायबिटीज में आहार (Diabetic Diet Plan) :

मधुमेह रोगियों को अपनी एक दिनचर्या बनानी चाहिए और रोजाना उसी के अनुसार भोजन करना चाहिए| हम आपको कुछ विशेष सलाह देते हैं –

सुबह (06 बजे ) –

रात को मैथी के दाने पानी में भिगो कर रख दें और सुबह इस पानी का सेवन करें और मैथी के दाने भी चबा जाएँ| एलोवेरा जूस पियें एलोवेरा छीलकर खा भी सकते हैं|

जो लोग सुबह चाय पीना चाहते हैं वो बिना चीनी की चाय ही पियें, बिस्किट लेने हैं तो नमकीन वाले लें और अगर शुगर ज्यादा बढ़ी है तो बिस्किट ना ही लें|

सुबह (08:30 बजे) –

नाश्ता : 1 प्लेट उपमा या दलिया व आधी कटोरी अंकुरित अनाज, 100 ml मलाई रहित बिना शक्कर का दूध।

सुबह (10:30 बजे) –

1 छोटा छिलके सहित फल केवल 50 ग्राम का या 1 कप पतली छाछ या नींबू पानी।

ये भी पढ़े –क्या आप भी रोज़ चावल (Rice) खाते हैं? तो ये 8 नुकसान भी ज़रूर जान लीजिये!

दोपहर ( 12:30 बजे) –

भोजन : 2 मिश्रित आटे की सादी रोटी, 1 कटोरी पसिया निकला चावला (चावल उबलने के बाद बचा हुआ पानी ) व 1 कटोरी सादी दाल, 1 कटोरी मलाई रहित दही, आधा कप हरी पत्तेदार सब्जी, सलाद 1 प्लेट।

शाम (4 बजे ) –

इस समय हल्की भूख लगने लगती है| मधुमेह रोगी इस समय फीकी चाय ले सकते हैं और साथ में 1 या 2 ब्रेड (इससे ज्यादा नहीं)

शाम ( 6 बजे ) –

हरी सब्जी जैसे पालक, मैथी या करेले के जूस का सेवन करें|

रात्रि भोजन (8 से 8:30 बजे ) –

डॉक्टर कहते हैं कि मधुमेह रोगी को सोने से दो – तीन घंटे पहले ही भोजन कर लेना चाहिए.

इसीलिए खाना समय से खाएं और इस समय भी आप लंच की तरह से ही खाना खा सकते हैं.

परन्तु कोशिश करिये कि 1 रोटी कम खाएं क्यूंकि रात्रि में भोजन थोड़ा कम ही अच्छा होता है और रात लो दही ना खाए तब भी अच्छा रहेगा.

सोने से पहले (10 बजे) –

जो लोग सोने से पहले चाय पीने के शौक़ीन हैं वो डबल टोंड दूध की बिना शक़्कर वाली चाय पी सकते हैं|

नोट – खाना खाने के बाद आधा घंटा टहलना ना भूलें क्यूंकि मधुमेह के रोगी के शरीर में इन्सुलिन की मात्रा कम होती है जिससे भोजन पचने में दिक्कत होती है अगर थोड़ा चलेंगे तो इन्सुलिन का स्राव बढ़ जायेगा.

ये भी पढ़ें : सिर्फ 3 रुपए में मच्छर मुक्त बनाएं अपना घर, इस चीज को लगाने के बाद दोबारा आ नहीं सकता मच्छर

घुटनो के दर्द से है परेशान तो इन बातो का रखे खास ध्यान

क्या नहीं खाना है?

डायबिटीज में आहार का संतुलन बनाये रखने के लिए आपको ये जानना जरुरी है कि आपको क्या खाना है और क्या नहीं –

1. फलों में आप सेब, अनार, संतरा, पपीता, जामुन, अमरुद ले सकते हैं.

इसके विपरीत आम, केला, लीची, अंगूर ये सभी ज्यादा मीठे फल नुकसान देते हैं इसलिए इन्हें ना खाए.

2. करेला, ककड़ी, खीरा, टमाटर, शलजम, लौकी, तुरई, पालक, मैथी, गोभी ये सब फायदेमंद हैं और आलू, शकरकंद ये सभी नुकसान देते हैं क्योकि ये थोड़े मीठे होते है.

3. ड्राई फूड्स में बादाम, अखरोट, अंजीर, सूखे मेवे ये सब फायदेमंद हैं और किशमिश, छुआरा, खजूर ये सभी नुकसान देते हैं इन्हें ना खाए.

4. डब्बाबंद दूध, दही, मक्खन का सेवन ना करें.

5. कोल्डड्रिंक, चीनी, शक्कर, गुड़, गन्ने का रस, जूस, चॉकलेट इन सबका सेवन तुरंत बंद कर दें ये शारीर को बहुत नुकशान पहुंचाते है.

अपने साथ कुछ मीठा अवश्य रखें ताकि शुगर अगर बहुत कम हो जाये तो आप उसे खा सकें. शुगर ज्यादा कम हो जाये तो Hypoglycemia की स्थिति आ जाती है जिसमें आपको चक्कर, कमजोरी आ सकते हैं.

विनम्र विनती :

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे फेसबुक (Facebook) पेज – Khabar Nazar पर Like करना न भूलें.

 

http://whatslink.co/SugarCare

Sugar Care Kit के बारे में जानना चाहते हैं, तो घर बैठे कूरियर से भारत में कहीं भी किट पाने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/SugarCare

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply