भाई राजीव दीक्षित के बताये गाय के घी के बेमिसाल फायदे!

आजकल सर दर्द आम बात है, सर दर्द के लिए भाई राजीव दीक्षित जी ने बहुत से इलाज बताए है जिसमे से कुछ आपके साथ साझा करना चाहेगे. सर के दर्द की सबसे अच्छी दवा आपके घर मे है और वो है देशी गाय का घी. थोड़े से घी को चम्मच में हल्का सा गर्म कर लो और इसको दोनों नाक मे एक एक बूंद डाल के सो जाओ.

इससे सब तरह का सर दर्द 15-20 मिनट मे ठीक हो जाता है और ये आपको रात को सोते समय ही करना है. इस गाय के घी के बहुत से फायदे है. इससे खराब से खराब बीमारियाँ ठीक होती है इससे जैसे किसी के नाक से खून आता है, जिसे नकसीर कहते है. उसकी ये सबसे अच्छी दवा है.

अगर किसी व्यक्ति के नाक से हर समय छिक आती रहती है या पानी निकलता रहता है, उसके लिए भी ये बहुत ही अच्छी दवा है. अगर किसी की नाक में हड्डी बढ़ गयी है उसकी भी ये सबसे अच्छी दवा है अगर किसी को साइनस है ये दवा उसमे भी काम करती है.

अगर किसी को इस्तोप्लिया है, इसमे हर समय सर्दी खांसी होती रहती है इसको ये नुस्खा दो दिन मे ही ठीक कर देता है. अगर किसी को रात को सोने के बाद नाक से संगीत निकलता है जिसको आप खराटे भी कहते है, ये उसकी भी बहुत अच्छी दवा है. इस दुनिया की सबसे खतरनाक बीमारी है प्रीवियस स्ट्रोक, परलिसिस, ब्रेन हमरेज उसकी भी ये सबसे अच्छी दवा है.

गाय का घी जिनको ब्रेन हमरेज हो जाता है, पारलिसिस हो जाता है, उनको कहो नाक मे घी डालकर सोये. 6 से 8 महीने में ये ठीक हो जायेगा.

इन सबसे ज्यादा खतरनाक एक और बीमारी है, मिर्गी के दौरे पड़ना. ये बीमारी भी इससे बिलकुल ठीक हो जाती है. बस समय थोडा ज्यादा लगेगा लेकिन ठीक हो जाएगा. आजकल स्कूल collage के बच्चो को एक समस्या होने लगी है कि उनको पढाई हुई चीज याद नाह रहती, एक याद करते है तो पिछली भूल जाते है.

ये दवा उनके लिए भी बहुत फायदेमंद है. यह गाय का घी स्मरण शक्ति बहुत तेज़ कर देता है.

गाय के घी के बारे में एक जानकारी आपको दे दूँ कि ये जितना पुराना होता है उतना ही अच्छा होता है. अगर पुराना गाय का घी मिले तो नाक का कैंसर ठीक कर देता है, नाक का कैंसर जल्दी ठीक नही होता. लेकिन गाय का घी ठीक कर देता है. आपको एक सुझाव देता हूँ, कि आप गाय का घी रखते जाओ, थोडा – थोडा.

ये आपके लिए किसी दिन बहुत काम का है एक कांच की शीशी मे भरकर रख लो क्यूंकि कांच की शीशी मे ये खराब नही होता वैसे तो मिटटी के घड़े मे भी खराब नही होता लेकिन कांच की शीशी मे आप थोडा भी रख सकते हो.

आपको सिर्फ इतना करना है कि देशी गाय का घी लेना है और हल्का गर्म करके रात को सोने से पहले दोनों नाक में एक एक बूंद डालनी है. और ये आपको बहुत फायदा देगा और ऊपर बताई गई सब बीमारी का इलाज भी करेगा.

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like ज़रूर करें!

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply