fbpx

जानिए लौंग (Clove) खाने के बेमिसाल फायदे जो आपको रखते हैं स्वस्थ

लौंग (Clove) हर महिला की रसोई में मिलने वाले मसालों में से एक है. इसके इस्तेमाल सिर्फ खाने को स्वाद बनाने में ही नहीं बल्कि ये और भी गुणों से भरी पड़ी है.

आज मैं आपको इसी के बारे में बता रही हूँ. जानने के लिए पढ़ते रहिये –

इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटीबैक्‍टीरियल तत्‍व आपको सेहतमंद बनाए रखते हैं. यह हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ ही आपके स्‍कैल्‍प से डैंड्रफ भगाकर बालों की कंडिशनिंग भी करता है.

रात में लौंग (Clove) खाने के फायदे

लौंग में यूजेनॉल होता है जो साइनस व दांत दर्द जैसी स्वास्थ्य संबंधी बिमारियों को ठीक करने में मदद करता है। लौंग की तासीर भी गर्म होती है, इसीलिए सर्दी में बहुत लाभदायक है।

प्रयोग के अनुसार रात में सोने से ठीक पहले आपको 2 लौंग ग्रहण करने हैं। लेकिन लौंग सीधा खाने हैं या इसके तेल का प्रयोग करना है या फिर कोई अन्य एक्सपेरिमेंट यह रोग के अनुसार आगे जानिए –

पेट दर्द

अगर किसी को रोजाना पेट दर्द रहता है, पाचन शक्ति कमजोर है तो रात सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ वह दो लौंग निगल ले या फिर खाना खाने के बाद एक लुंग चबा ले। कुछ दिन ऐसा करने से पेट दर्द की परेशानी काफी कम हो जाएगी।

सिर दर्द

पेट दर्द के अलावा सिर दर्द ठीक करने में भी सहायक है ये लौंग। इसके लिए जब भी सिर में दर्द हो तो पेन किलर की जगह एक-दो लौंग गुनगुने पानी के साथ लें, कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा।

सबसे अच्छी बात यह है कि यह लौंग अन्य पेन किलर की तरह कोई साइड इफेक्ट भी नहीं करती।

साइनस

नाक में जलन से राहत दिलाने में लौंग बहुत फायदेमंद है. अगर लौंग को लंबे समय तक डाइट में शामिल किया जाए तो यह साइनस से काफी हद तक छुटकारा दिला सकता है.

आप साबुत लौंग को सूंघकर भी इसका फायदा ले सकते हैं. गर्म पानी में रोजाना तीन-चार चम्‍मच लौंग का तेल मिलाकर पीने से इंफेक्‍शन नहीं होता है और सांस लेना भी आसान हो जाता है.

ये भी पढ़े –

गले में खराश

मौसम बदलते ही या फिर बाहर का कुछ गलत खाने से यदि गले में खराश हो तो एक लौंग चबा लें या उसे जीभ पर रखकर चूसते रहें, इससे गले की खराश या दर्द दोनों में बहुत आराम मिलता है।

सर्दी

सर्दी लग जाए तो थोड़े से शहद में लौंग लें, यह प्रयोग 3-4 दिन रोजाना करने से सर्दी छूमंतर हो जाएगी।

मुंहासे

लौंग के प्रयोग से मुंहासों, ब्लैकहेड्स या व्हाइटहेड्स से भी छुटकारा पाया जा सकता है। इसके लिए अपनी स्किन के अनुसार आप जिस भी फेसपैक का इस्तेमाल करते हों उसमें थोड़ा-सा लौंग का तेल मिला लें और उसे हफ्ते में दो बार चेहरे पर लगाएं। कुछ ही दिनों में चेहरा मुहांसों रहित और चमकदार हो जाएगा।

मॉर्निंग सिकनेस

लौंग एंटीसेप्टिक है. यह अपच को ठीक करने के साथ ही आपको उल्‍टी और मिचली से भी राहत दिलाता है. यह प्रेग्‍नेंट महिलाओं के लिए तो बहुत ही गुणकारी है. प्रेग्‍नेंसी के शुरुआती महीनों में ज्‍यादातर महिलाओं को सुबह के वक्‍त उल्‍टी की श‍िकायत रहती है. ऐसे में उन्‍हें लौंग चूसने की सलाह दी जाती है.

बढ़ाए इम्‍यूनिटी

लौंग आपकी इम्‍यूनिटी बढ़ाकर इंफेक्‍शन और सर्दी-जुकाम से आपकी रक्षा करता है. यह एंटी-ऑक्‍सीडेंट गुणों से भरपूर है जो आपकी स्‍किन और मजबूत इम्‍यूनिटी सिस्‍टम के लिए बेहद जरूरी है.

सुधारे डाइजेशन

लौंग गैस्ट्रिक रस के स्राव में सुधार लाकर पाचन की प्रक्रिया को सुधारता है. लौंग पेट की कई परेशानियों में फायदा करता है जैसे गैस, जलन, अपच और उल्‍टी.

ये भी पढ़े-

कंट्रोल करे डायबिटीज

आयुर्वेद में डायबिटीज के इलाज में लौंग का इस्‍तेमाल किया जाता है. यह ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर डायबिटीज के रोगियों को सेहतमंद बनाए रखता है.

लौंग (Clove) के नुकसान

  • सूखे लौंग को अगर बड़ी मात्रा में लिया जाता है तो यह स्‍वास्‍थय समस्‍याओं का कारण बनता है। बच्‍चों को विशेष रूप से लौंग तेल नहीं देना चाहिए कयोंकि स्‍वास्‍थ्‍य खतरों की संभावना बहुत अधिक होती है।
  • लौंग तेल खून को पतला करने के लिए भी जाना जाता है। गर्भवती महिलाओं को भी लौंग तेल के उपयोग से बचना चाहिए।

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like करना न भूले.

http://whatslink.co/SugarCare

Sugar Care Kit के बारे में जानना चाहते हैं, तो घर बैठे कूरियर से भारत में कहीं भी किट पाने के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिये – http://whatslink.co/SugarCare

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply