fbpx

99% लोग काजू (Cashew Nut) के इतने लाभ नहीं जानते होंगे – ज़रूर पढ़िए!

काजू (Cashew Nut) सूखे मेवे में बहुत मशहूर है, लेकिन ये सिर्फ स्वाद ही नहीं बल्कि सेहत का भी ख़जाना है. आज मैं आपको बताने जा रही हूँ काजू (Cashew Nut) के ऐसे ही बेमिसाल फायदे.

काजू शरीर को सेहतमंद और निरोग बनता है. काजू का इस्तेमाल मिठाई और सब्जी की ग्रेवी को स्वादिष्ट बनाने के लिए खूब किया जाता है. काजू से बनी बर्फी को ज्यादातर लोग बहुत पसंद करते हैं. स्वाद के साथ ही यह सूखा मेवा सेहत को स्वस्थ रखने में भी खूब उपयोगी है.

आइए जानें, काजू खाने से स्वास्थ्य को किस तरह से लाभ पहुंचता है –

1. शरीर में एनर्जी बनाए

काजू को ऊर्जा का एक अच्छा स्रोत माना जाता है. इसे खाने से सेहत को कोई नुकसान नहीं पहुंचता लेकिन इसे ज्यादा मात्रा में नहीं खाना चाहिए. अगर आपका मूड बेमतलब ही खराब हो जाता है तो 2-3 काजू खाने से आपको इस समस्या में आराम मिल सकता है.

2. प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत

काजू में प्रोटीन अधिक मात्रा में होता है इसलिए इसे खाने से बाल और त्वचा स्वस्थ और सुंदर हो जाते हैं.

3. कोलेस्ट्रॉल करे कंट्रोल

काजू कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखता है. इसमें प्रोटीन अधिक होता है और यह जल्दी पच जाता है. काजू आयरन का अच्छा स्त्रोत माना जाता है इसलिए खून की कमी को दूर करने के लिए आप इसे खा सकते हैं.

ये भी पढ़े-

4. त्वचा बनाए चमकदार

काजू खाने से त्वचा का ग्लो करने लगती है और रंगत भी निखर जाती है. सौंदर्य बढ़ाने के लिए अक्सर ही घरेलू नुस्खों में इसका उपयोग किया जाता रहा है.

5. याद्दाशत होती है तेज

काजू विटामिन-बी का खजाना है. भूखे पेट काजू खाकर शहद खाने से स्मरण शक्ति बढ़ती है. काजू खाने से यूरिक एसिड बनना बंद हो जाता है और इसके सेवन से ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है.

6. हड्डियों को मजबूत बनाता है

काजू में प्रोटीन अधिक होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है. काजू में मौजूद मोनो सैचुरेटड फैट दिल को स्वस्थ रखता है और दिल की बीमारियों के खतरे को कम करता है.

7. पाचन शक्ति को बनता है मजबूत

काजू में एंटी ऑक्सीडेंट पाचन क्रिया को मजबूत बनाने के साथ ही वजन भी संतुलित रखता है.

काजू (Cashew Nut) खाने के नुकसान

कहा जाता है कि मेवे खाने से सेहत बनती है. खिलाड़ियों से लेकर सेहत बनाने वालों तक, ये लोग भरपूर मात्रा में काजू, बादाम, अखरोट जैसे मेवे खाते हैं. फिज़िकली एक्टिव रहने वाले लोग जैसे खिलाड़ियों को ये बेशक नुकसान ना करें, लेकिन दिनभर अपनी जगह से ना हिलने वाले लोगों के लिए यह बीमारियों की दावत देता है.

काजू खाने के साथ साथ इन बातों का भी ध्यान रखना ज़रूरी है कि इसके न सिर्फ फायदे हैं बल्कि इसका गलत इस्तेमाल नुक्सानदायक भी हो सकता है. इसके कुछ नुक्सान भी जान लीजिये –

1. वजन बढ़ाए

जो लोग डाइटिंग पर हैं वो काजू ना खाएं. क्योंकि यह बहुत जल्दी वजन बढ़ाता है. 3 से 4 काजू में लगभग 163 कैलोरिज़ और अनसैचुरेटिड फैट्स होता है. इसी वजह से ये उन लोगों के ज़्यादा बेहतर है जिन्हें वजन बढ़ाना हो. वजन कम करने वाले इसे कम मात्रा में ही खाएं.

​2. सोडियम

वयस्कों को रोजाना 1,500mg सोडियम की जरुरत होती है, इससे ज़्यादा सोडियम की मात्रा हाई ब्लड प्रेशर स्ट्रोक, दिल और किडनी से जुड़ी बीमारियों की वजह बनती है. वहीं, 3 ये 4 काजू में 5mg सोडियम की मात्रा होती है, अगर वो बिना नमक के हैं तो. क्योंकि 3 से 4 नमक वाले काजू में सोडियम की मात्रा 87mg होती है. इसीलिए कोशिश करें बिना नमक और कम काजू खाएं.

ये भी पढ़े-

3.एलर्जी

जी हां, कई लोगों को काजू खाने से सांस लेने में कठिनाई, पित्ती, चकत्ते, खुजली, उल्‍टी या फिर दस्‍त की शिकायत होती है. इसीलिए जब भी आपको ऐसी कोई शिकायत तो काजू का सेवन बंद करें और डॉक्टर को दिखाएं.

4. दवाइयों पर असर करे

बादाम की ही तरह काजू भी दवाइयों के असर को बेअसर करता है. क्योंकि बादाम की ही तरह इसमें भी मैग्नीशियम भारी मात्रा में होता है. 3 से 4 काजू में 82.5mg मैग्नीशियम होता है. काजू से मैग्नीशियम डायबिटीज, थायरॉइड, मूत्र संबधी और अर्थराइटिस की दवाइयों पर असर डालते हैं.

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं.

हमें सहयोग देने के लिए हमारे Sandhya Gujral पर Like करना न भूले.

सुखी और संतुष्ट वैवाहिक जीवन के लिए अपनी टाइमिंग बढ़ाएं,
घर बैठे पूरे भारत में 100% आयुर्वेदिक डॉ नुस्खे हॉर्स किट की गुप्त डिलीवरी पाएं!

इस लिंक पर क्लिक करके सुरक्षित आर्डर करें!
http://whatslink.co/Horsekit

Satya Sharma

मैं अंग्रेजी दवाओं के मुकाबले घरेलु नुस्खों, आयुर्वेद और देसी इलाज को ज्यादा महत्चपूर्ण और कारगर मानती हूँ. सही खान-पान से और नियमित दिनचर्या से वैसे ही बीमारियों से बचा जा सकता है. अंग्रेजी दवाओं के दुष्प्रभाव से बचाने और भारतीय चिकित्सा पद्दति को बढ़ावा देने के लिए मेरी वेबसाइट से जुड़िये और अपने दोस्तों को भी इसके बारे में बताइए.

Leave a Reply